1_5668197e24ccd

लखनऊ | उत्तर प्रदेश में सियासी हलचल तेज हो गयी है. राजनितिक अटकलों के बीच अखिलेश यादव , गवर्नर से मिलने पहुंचे है. इसी बीच परिवार और पार्टी को बचाने के लिए मुलायम सिंह यादव ने एक और प्रयास किया है. उधर अटकले लग रही है की अखिलेश यादव मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देकर, राज्यपाल से विधानसभा भंग करने की सिफारिश कर सकते है.

बुधवार को अखिलेश ने राज्यपाल राम नाईक से मिलने का समय माँगा था. खबर यह है की मुख्यमंत्री फ़िलहाल राज्यपाल से मिलने , राजभवन पहुँच चुके है. राजनितिक हलको में चर्चा है की अखिलेश आज कोई बड़ा कदम उठा सकते है. हालाँकि चर्चाये यह भी है की राज्यपाल ने प्रदेश के राजनितिक घटनाक्रम की जानकारी लेने के लिए खुद अखिलेश को बुलाया है.

और पढ़े -   मोदी के दलित मंत्री ने उठाई सवर्ण जातियों को आरक्षण देने की मांग

कुछ लोगो का कहना है की अखिलेश मंत्रिमंडल विस्तार या आज बर्खास्त किये गए मंत्री पवन पाण्डेय के बारे में चर्चा करने के लिए राज्यपाल से मिल रहे है. हालांकि अभी तक कोई पुष्ट खबर नही मिली है. लेकिन अगर अखिलेश यादव आज अपना इस्तीफा दे देते है , तब भी चुनाव होने तक वो ही प्रदेश के कार्यकारी मुख्यमंत्री रहेंगे. अखिलेश का यह कदम उत्तर प्रदेश की राजनीती में उनके लिए एक मास्टर स्ट्रोक हो सकता है.

और पढ़े -   प्रिंस्टन यूनिवर्सिटी में बोले राहुल - नए रोजगार देने में पूरी तरह फ़ैल रही मोदी सरकार

उधर पार्टी और परिवार में मची उथल पुथल को ठीक करने के लिए मुलायम लगातार प्रयास कर रहे है. मिली जानकारी के अनुसार मुलायम ने उन सभी मंत्रियो को अपने आवास बैठक के लिए बुलाया है जिन्हें अखिलेश ने मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया था. इस बैठक में शिवपाल यादव भी मौजूद रहेंगे. मालूम हो की आज मुलायम सिंह ने अखिलेश के करीबी मंत्री पवन पाण्डेय को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया. पवन पर एम्एलसी आशु मालिक के साथ मारपीट करने का आरोप था.

और पढ़े -   राजनाथ सिंह: रोहिंग्याओं को वापस लेने के लिए म्यांमार तैयार, अब आपत्ति क्यों ?

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE