लखनऊ उत्तर प्रदेश समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्‍यक्ष मुलायम सिंह यादव ने कहा है कि उन्‍हें अयोध्‍या में बाबरी विध्‍वंस के दौरान कार सेवकों पर गोली चलवाने का दुख है. हालांकि उन्‍होंने यह भी कहा कि धर्मस्‍थल को बचाने के लिए उनका यह फैसला जरूरी था.

अयोध्‍या में चली गोली पर 26 साल बाद मुलायम ने जताया अफसोस

बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री और समाजवादी नेता कर्पूरी ठाकुर की जयंती पर लखनऊ में सपा कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में सपा अध्‍यक्ष मुलायम सिंह यादव थोड़े भावुक दिखे. उन्‍होंने कहा कि 1990 में उन्‍होंने अयोध्‍या में कार सेवकों के ऊपर गोलियां चलवाई थी, जिसका उन्‍हें दुख है.

मालूम हो कि जब कार सेवकों ने अयोध्‍या में विवादित ढ़ाचे को गिराने की कोशिश की थी, तब मुलायम सिंह यादव यूपी के मुख्‍यमंत्री थे. उन्‍होंने कार सेवकों पर फायरिंग करवा दी थी, जिसमें 16 लोग मारे गए थे.

सपा अध्‍यक्ष मुलायम सिंह यादव ने कहा कि अगर और भी जानें जातीं, तब भी वह धर्मस्थल को बचाते. उन्होंने कहा, ‘इसी वजह से बाद में मैंने नैतिकता के आधार पर इस्तीफा दे दिया था.’

मंत्रियों को लगाई फटकार: इससे पहले सपा प्रमुख ने जननायक कर्पूरी ठाकुर की तस्वीर पर श्रद्धासुमन अर्पित किए. इस मौके पर मुलायम सिंह ने अपने मंत्रियों को भी फटकार लगाई. उन्होंने नेताओं से कहा, ‘अगर पैसा कमाना ही मकसद था तो राजनीति में आने की बजाय बिजनेस करते तो अच्छा होता. पार्टी के आधे मंत्री अभी भी नहीं सुधरे हैं. मंत्री अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे. उनके सभी कामों पर मेरी पूरी नजर है.’

लखनऊ में सपा के दफ्तर में जननायक कर्पूरी ठाकुर की जयंती के अवसर पर एक विशेष कार्यक्रम आयोजित किया गया था. मुलायम के अलावा इस दौरान माता प्रसाद पांडे, रामगोविंद चौधरी और अन्य कई बड़े नेता भी कार्यक्रम में मौजूद थे. कार्यक्रम में मुलायम सिंह ने कर्पूरी ठाकुर से जुड़े संस्मरण भी सुनाए. साभार: न्यूज़ 18


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें