meh

जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने राज्य से विवादास्पद कानून अफ्सपा (AFSPA) को एक बार फिर से हटाने का वादा किया हैं. मुफ्ती ने कहा कि अगर एक बार स्थिति शांतिपूर्ण हो गई तो घाटी में से इस कानून को हटा दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि हमारे पास इस बारें में लिखित समझौते हैं.

उन्होंने कहा कि अफ्स्पा कानून जिससे सेना को विशेष ताकत मिलती है जिससे वे शक होने पर किसी भी घर की तलाशी ले सकते हैं या फिर उन्हें हिरासत में ले सकते हैं, हमेशा के लिए नहीं है.  उन्होंने कहा, यह बेहद जरूरी है, जम्मू-कश्मीर में शांति और सद्भाव का वातावरण बनाया जाए.

साथ ही उन्होंने पुलिस से कहा कि घाटी के भटके युवाओं को सीधे एनकाउंटर न करे, बल्कि उन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश करे. उन्होंने कहा, हमारे बच्चे जो आतंकवादी बन गए हैं, मैं पुलिस से अपील करती हूं कि ऐसी कोशिश की जाए कि वे वापस आएं. एनकाउंटर में मार गिराए जाने की बजाए उन्हें वापस मुख्य धारा में जोड़ा जाए. उनके हाथों में बंदूक के बजाए बैट और बॉल थमाया जाए तो बेहतर होगा.

मुफ्ती ने मौजूदा हालात पर कहा, म किसी पर पत्‍थर फेंक कर उनसे बातचीत की शुरुआत नहीं कर सकते हैं. उनका कहना था कि पाकिस्‍तान को भी राज्‍य में माहौल शांत करने का प्रयास करना चाहिए.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें