suicide-1478064768

नई दिल्ली | आजकल हर रैली और हर भाषण में प्रधानमत्री मोदी सैनिको की बात करते दिख जायेंगे. वन रैंक वन पेंशन और सर्जिकल स्ट्राइक को अपनी उपलब्धि बताने वाली केंद्र सरकार को आज एक पूर्व सैनिक ने आइना दिखाया है. वन रैंक वन पेंशन पर केंद्र सरकार की संस्तुति से नाराज एक पूर्व सैनिक ने आत्महत्या कर ली. यह पूर्व सैनिक सोमवार से धरने पर बैठा था.

और पढ़े -   सहारनपुर में मायावती के जाने के बाद भड़की हिंसा, दलित ठाकुरों के बीच संघर्ष में दो लोगो की मौत, कई घरो को लगाई गयी आग

दिल्ली के जंतर मंतर पर कुछ पूर्व सैनिक सोमवार से धरने पर थे. ये लोग केंद्र सरकार के वन रैंक वन पेंशन पर की गयी घोषणा से नाराज थे. इनमे से एक पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाल हरियाणा का रहने वाला था. केंद्र सरकार से खिन्न चल रहे रामकिशन ने आज एक ऐसा कदम उठाया जिससे दिल्ली में बैठा सारा राजनितिक परिवार हिल गया.

और पढ़े -   सहारनपुर में मायावती के जाने के बाद भड़की हिंसा, दलित ठाकुरों के बीच संघर्ष में दो लोगो की मौत, कई घरो को लगाई गयी आग

रामकिशन ने वन रैंक वन पेंशन पर अपनी मांग नही माने जाने से क्षुब्द होकर आत्महत्या कर ली. परिजनों ने मीडिया को बताया की वो मंगलवार को अपने साथियो को लेकर रक्षा मंत्री मनोहर परिकर से मिलने जा रहे थे. लेकिन रास्ते में ही उन्होंने जहर खा लिया. गंभीर अवस्था में रामकिशन को राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया जहाँ आज उन्होंने दम तोड़ दिया.

और पढ़े -   सहारनपुर में मायावती के जाने के बाद भड़की हिंसा, दलित ठाकुरों के बीच संघर्ष में दो लोगो की मौत, कई घरो को लगाई गयी आग

रामकिशन ने आत्महत्या करने से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा था जिसमे रामकिशन ने लिखा की मैं अपने देश, मात्रभूमि और जवानों के लिए अपने प्राण न्योछावर कर रहा हूँ. रामकिशन की मौत पर सियासी हलचल तेज हो गयी है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल , आज रामकिशन के परिजनों से मिलेंगे. उम्मीद है की इस मामले में राजनीती अपने चरम पर पहुंचेगी.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE