पुलिस का मानना है कि हत्‍या निजी रंजिश के चलते की गई। मृतक अरुण कुमार हिंदू महासभा से जुड़ा हुआ था और वार्ड चेयरमैन था।

आगरा में विश्‍व हिंदू परिषद(विहिप) से जुड़े एक नेता की हत्‍या के बाद से तनाव का माहौल है। हत्‍या के बाद कुछ लोगों ने सेव का बाजार इलाके के इमाम की पिटाई कर दी थी जिसके बाद साम्‍प्रदायिक तनाव और बढ़ गया। मारे गए व्‍यक्ति का नाम अरुण कुमार था। वह सुबह मुस्लिम बहुल इलाके मंतौला में मंदिर में दर्शन कर दुकान पर जा रहा था। इसी दौरान उसे गोली मार दी गई। समाजवादी पार्टी से जुड़ा हुआ शाहरुख नाम का व्‍यक्ति मामले में आरोपी है। हत्‍या के बाद से हिंदू और मुस्लिम संगठन आमने सामने हैं।

अरुण की हत्‍या के बाद कुछ बदमाशों ने सेव का बाजार मस्जिद के इमाम मोहम्‍मद अखलाक की पिटाई कर दी। हालांकि अभी हालात काबू में हैं। पुलिस का मानना है कि हत्‍या निजी रंजिश के चलते की गई। शहर के सभी मुस्लिम बहुल इलाकों में पुलिस जाब्‍ता तैनात किया गया है। अरुण कुमार हिंदू महासभा से जुड़ा हुआ था और वार्ड चेयरमैन था। हत्‍या का आरोपी फरार है। डीएम पंकज कुमार ने बताया कि शहर में शांति है और हिंसा नहीं होने दी जाएगी। अनहोनी को टालने के लिए बाजार बंद रखने को कहा गया है। हालांकि कर्फ्यू नहीं लगाया गया है।

गौरतलब है कि 14 साल पहले साल 2002 में भी आगरा में दंगे हो गए थे। इसमें कई लोगों को जान गंवानी पड़ी थी। वहीं करोड़ों रुपये की संपत्ति खाक हो गई थी। उस समय शहर में सात दिन तक कर्फ्यू लगाया गया था। (Jansatta)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें