jak

अपने विवादित बयानों से चर्चा में आए जाकिर नाइक ने शुक्रवार को सऊदी अरब के मदीना से स्काइप के जरिये प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान जाकिर ने पीस टीवी और अपने भाषणों को लेकर सफाई में कहा कि निर्दोष लोगों को निशाना बनाकर किए जाने वाले आत्मघाती बम हमले निंदनीय हैं.

किसी आतंकी को प्रेरित नहीं करने का दावा करते हुए विवादित इस्लामी उपदेशक जाकिर नाइक ने कहा कि वह ‘शांति का दूत’ है. उन्होंने फ्रांस के नीस शहर में हुए आतंकी हमले की निंदा भी की. उन्होंने कहा कि वो आतंकवाद को सही नहीं ठहराते हैं और उनके भाषणों को आधा अधूरा दिखाया गया है जिससे लोगों में उनको लेकर ग़लतफ़हमी पैदा हुई है.

और पढ़े -   जानिये क्या हुआ जब जुनैद के हत्यारोपी के समर्थक पहुंचे उसके घर...

जाकिर का कहना था कि मीडिया उनकी लोकप्रियता का फ़ायदा उठा रहा है और उनका मीडिया ट्रायल किया जा रहा है क्योंकि किसी भी सुरक्षा एजेंसी ने अभी तक उन्हें अप्रोच नहीं किया है.

उन्होंने आगे कहा, ”मेरे भाषण अंग्रेज़ी में होते हैं और उनसे किसी अशिक्षित वर्ग को मैं भड़का नहीं सकता, वैसे भी मैं ऐसी कोई बात नहीं करता जिससे लोगों को हिंसा का संदेश मिले. मेरे चैनल ‘पीस टीवी’ को लाईसेंस नहीं दिया जा रहा इसका कारण सूचना प्रसारण मंत्रालय बताए, मैं तो अपनी अर्ज़ी डाल चुका हूं.”

और पढ़े -   पुलिस की समझदारी से टल गया एक और दंगा

ज़ाकिर ने आरोप लगाया कि वो मुसलमान हैं और इस कारण से उन्हें भारत में उनके चैनल को प्रसारित करने का अधिकार नहीं दिया जा रहा है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE