jakir naik

दुनिया भर में अपनी कट्टर वहाबी और सलाफी विचारधारा के लिए प्रसिद्ध जाकिर नाइक ने भारतीय मीडिया को चुनोती देते हुए कहा कि अखबार ने खबर को मसाला लगाकर पेश‍ किया, जिसके बाद भारतीय मीडिया ने इस खबर को बिना जांच और पड़ताल के चलाना शुरू कर दिया. इसलिए मैं भारतीय मीडिया को चैलेंज करता हूं कि वह बांग्लादेश सरकार की ओर से जारी ऐसा कोई बयान दिखाए जिसमें कहा गया है कि मैंने आतंकियों को प्रेरित किया.’

और पढ़े -   राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग का हुआ पुनर्गठन, गयरुल हसन को नियुक्त किया गया अध्यक्ष

जाकिर ने आगे लिखा है कि मीडिया में उनके बारे में गलत खबरें आईं कि उन्हें मलेशिया के साथ ही दूसरे देशों में भी बैन किया गया है. जाकिर नाइक ने कहा, ‘मुझे मलेशि‍या में बैन नहीं किया गया. मैं वहां तीन महीने पहले ही वहां गया था. अगर थोड़ी रिसर्च कर लेते तो पता चल जाता कि 2013 में मुझे मलेशि‍या के प्रधानमंत्री ने सर्वोच्च सम्मान से नवाजा.’

और पढ़े -   सेना जीप के आगे बांधे जाने वाले बयान पर अरुंधती राय ने परेश रावल को दिया जवाब

उन्होंने आगे कहा है, ‘क्या आपको लगता है कि मलेश‍िया की खुफिया एजेंसी और सरकार एक ऐसे आदमी को अवॉर्ड देगी जो आतंकवाद को बढ़ावा देता है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE