भारत से फरार विवादित सलाफी स्कॉलर जाकिर नाईक मलेशिया में रह रहा है. उसकी मलेशिया की प्रसिद्ध मस्जिद के बाहर की तस्वीरें सामने आई है. जिसमे वह अपने बॉडीगार्ड के साथ नजर आ रहा है. इस मस्जिद में अकसर मलेशिया के प्रधानमंत्री सहित कई बड़ी हस्तियाँ नमाज अदा करने आती है.

माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री नजीब रजाक ने जाकिर नाईक को नागरिकता भी प्रदान कर दी है. हालाँकि इस बारे में अभी कोई पुख्ता जानकारी नहीं है. ध्यान रहे पिछले सप्ताह ही भारत में एनआईए ने जाकिर नाईक के खिलाफ मनीलांड्रिंग सहित कई गंभीर मामलों में चार्जशीट दायर की है.

कहा जा रहा है कि सत्तारूढ़ पार्टी कंजरवेटिव जातीय मलय-मुस्लिम बेस को बढ़ाने के लिए जाकिर नाईक को देश में शरण दी हुई है. दरअसल मलेशिया में 2018 के मध्य में चुनाव होने वाले हैं. सिंगापुर के एस. राजारत्नम स्कूल ऑफ इंटरनैशनल स्टडीज के विश्लेषक राशद अली ने कहा कि मलयेशिया सरकार नाईक को तवज्जो देती है क्योंकि वह मलय लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हैं.

उन्होंने कहा, ‘अगर सरकार नाईक को देश से बाहर निकाल देती तो जनता की नजर में वह अपनी धार्मिक विश्वसनीयता खो सकती थी.’ हालांकि इसी बीच मलेशियाई मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के एक समूह ने जाकिर नाईक का स्थायी निवास परमिट को रद्द करने के लिए क्वालालंपुर उच्च न्यायालय में याचिका दायर की है.

इस बारें में मलेशियाई उप प्रधानमंत्री अहमद ज़ाहिद हामिदी ने मंगलवार को संसद से बताया कि पांच साल पहले स्थायी निवास प्राप्त करने वाले नाइक को सरकार कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं दे रही है और उसने इस देश में जितना भी समय बिताया है उसमे कोई कानून नहीं तोड़ा है. उनका कहना है कि भारत ने इस संबंध में कभी कोई दरखास्त भी नहीं की है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE