islam-banking

रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (आरबीआई) ने हाल ही में बैंकों के सामने इस्लामिक बैंकिंग के तहत बैंकों में इस्लामिक विंडो खोले जाने का प्रस्ताव दिया हैं. ऐसे में उम्मीद लगाई जा रही हैं कि रिजर्व बैंक के इस कदम से भारत में खाड़ी देशों से हजारों अरब डॉलर का निवेश आएगा.

इंडिया सेंटर फॉर इस्लामिक फाइनेंस (आईसीआईएफ) ने कहा कि यदि रिजर्व बैंक का प्रस्ताव वास्तविकता बनता है तो संयुक्त अरब अमीरात, कतर और बहरीन जैसे देशों से भारत में भारी निवेश आएगा.

और पढ़े -   देखे तस्वीरें: देश भर के मदरसों में बड़ी शान से मनाया गया स्वतंत्रता दिवस

आईसीआईएफ के महासचिव एच अब्दुर रकीब ने कहा, ‘खाड़ी देशों में अरबों डॉलर वाले कई सॉवरेन कोष भारत में निवेश की तैयारी कर रहे हैं. इस्लामिक खिड़की से यूएई, कतर और बहरीन के लोगों को भारत में निवेश के लिए हरी झंडी मिलेगी.’

गौरतलब रहें कि इस्लाम में ब्याज हराम होने के कारण मुस्लिम समुदाय का एक बड़ा हिस्सा अब भी देश की बैंकिंग व्यवस्था से दूर हैं. ऐसे में आरबीआई का ये प्रस्ताव काफी हितकारी होगा.

और पढ़े -   आरटीआई में हुआ खुलासा: बीजेपी शासित राज्यों से चोरी हुई हजारों ईवीएम

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE