khalid1

ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य और लखनऊ के शहरकाजी मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने शनिवार को यहां प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि इस्लामी शरीयत ऐसी नहीं है जो वक्त और हालात के हिसाब से बदली जाए। मुसलमान इसका सही तरीके से पालन नहीं कर रहे हैं, इसलिये समस्याएं पैदा हो रही हैं। उन्होंने कहा कि शरीयत में किसी भी तरह की तब्दीली बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

और पढ़े -   मध्यप्रदेश के शिक्षामंत्री का बयान, मदरसों में रोज गाया जाए राष्ट्रगान और फहराया जाए तिरंगा

बोर्ड की महिला सदस्यों की जिम्मेदारी है कि इस्लामी शरीयत की सही बातें औरतों तक ले जाएं। मौलाना रशीद ने कहा कि तीन तलाक का जो मामला उछाला जा रहा है, वह दरअसल महिलाओं को इस्लाम में दिए गए अपने अधिकारों के बारे में जानकारी नहीं होने की वजह से उठ रहा है।

इस्लाम ने महिलाओं को जितने अधिक अधिकार दिए हैं, उतने किसी और धर्म में नहीं मिले हैं। इस्लाम ने कई मामलों में तो औरतों को मर्दों से ज्यादा अधिकार दिए हैं। उन्होंने कहा कि मुसलमानों की 20 करोड़ आबादी में शामिल करीब 10 करोड़ महिलाओं में से 99 प्रतिशत महिलाएं मुस्लिम पर्सनल लॉ से खुश हैं।

और पढ़े -   रोहिंग्या शरणार्थियों की आने की संभावना के चलते भारत ने म्यांमार के साथ की अपनी सीमा सील

शरीयत किसी के साथ नाइंसाफी नहीं करती। इस्लाम में शादी एक अनुबंध है, जो दोनों पक्षों की मर्जी से होता है। तीन तलाक के सवाल पर मौलाना ने कहा कि एक वक्त में तीन तलाक देना गलत है और हम इसकी निन्दा करते हैं।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE