mulaya-singh-get-bored-of-azam-khan

उत्तर प्रदेश के नगर विकास मंत्री और समाजवादी पार्टी के लिए उत्तर प्रदेश में मुस्लिम चेहरा, आज़म खान, इन दिनों मीडिया से दूर होने के बावजूद भी प्रदेश की राजधानी में उनकी चर्चा आम हैं. उड़ती हुई खबरों से खबर मिली है की समाजवादी पार्टी में उनकी उलटी गिनती शुरू हो चुकी. दूसरी अोेर एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी अपनी पार्टी को उत्तर प्रदेश में मज़बूती प्रदान करने के लिए प्रदेश के सभी मुस्लिम नेताओं को अपने पाले में घसीटने की पूरजोार कोशिश में लगे हुए हैं.

पार्टी में अमर सिंह की वापसी से आज़म खान बिलकुल भी खुश नहीं हैं, हत्ता कि पार्टी में अमर सिंह की वापसी के बाद तो जैसे आज़म खान के तेवर ही बदल गए. जबसे अमर सिंह कि घर वापसी हुई है तबसे लखनऊ में आयोजित किसी भी ख़ास प्रोग्राम में आज़म खान ने शिरकत नहीं की.

हालाँकि, विधान परिषद के चुनाव में भाग लेने वह लखनऊ जरूर आए, लेकिन उनकी बेरुखी अपने सन्देश देती रही. यहाँ तक की उन्होंने मीडिया तक को अपने करीब नहीं आने दिया. लखनऊ पहुंचने के बाद आज़म खान ने पार्टी के सभी बड़े नेताओं से मुलाकात तो की लेकिन उनकी ख़ामोशी कुछ और ही बताना चाह रही थी, जिसको देखने के बावजूद भी न तो किसी वरिष्ठ नेता ने इस पर मुंह खोल और ना ही आज़म खान ने किसी बात की पुष्टि की.

पार्टी में चल रही इस खींचा-तानी के चलते, देर शाम तक मीडिया में यह खबरें तैरने लगीं कि नगर विकास मंत्री आजम खां एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का साथ दे सकते हैं.
इससे पहले अमर सिंह के नामांकन अपनी नाराज़गी ज़ाहिर करते हुए आज़म खान ने कहा था कि, “जहां तक मुझे लगता है, दुर्भाग्यपूर्ण है, और मैंने पार्टी के सभी पदों और मंत्रालयों से इस्तीफे के लिए पत्र भेजा है, लेकिन मुलायम सिंह यादव जी ने इसे अभी तक स्वीकार नहीं किया हैं.

Web-Title: Will Azam khan left SP and Joined AIMIM

Key-Words: Azam Khan, AIMIM, UP, SP, Amar Singh, Lucknow, Mulay singh Yadav, Assaduddin Owaisi


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें