कहते है मारने वाले से बचाने वाला हमेशा बड़ा होता है यह साबित कर दिखाया बस ड्राईवर सलीम ने, जहाँ एक तरफ आतंकवादी अंधाधुं फायरिंग करके मासूमों की जान ले रहे थे वहीँ बस ड्राईवर सलीम ने अपनी जान की परवाह ना करते हुए अपनी बस में बैठे भोलेभक्तों की ना सिर्फ जान बचाई बल्कि आतंकवादियों के मंसूबों पर पानी फेर दिया.

वलसाड के ओम ट्रैवल्स की बस का यह ड्राईवर जिसका नाम सलीम शेख़ है। शेख़ भोले के भक्तों को लेकर अमरनाथ से कटरा जा रहा था तभी आतंकी हमला हो गया लेकिन उसकी दिलेरी ने बस में सवार कई यात्रियों की जान बचा ली।

और पढ़े -   बाबरी मस्जिद विध्वंस के 25वे साल 2 लाख 'धर्म योद्धा' उतारेगी विश्व हिन्दू परिषद

कैसे बचाई सलीम ने लोगो की जान

दरअसल, गोलियों की आवाज़ सुनकर बस में अफ़रातफरी मच गई थी और लोग घबरा गए थे लेकिन ऐसे संकट के समय बस के ड्रावर सलीम शेख़ ने हिम्मत नहीं हारी। उसे मालूम था कि अगर उसने बस रोक दी तो आतंकियों के लिए बस पर निशाना साधना आसान हो जाएगा। बस फिर क्या था, सलीम ने बस के एक्सेलेरेटर पर पांव रखा और गोलीबारी के बीच बस दौड़ाना शुरु कर दी. इस बीच एक गोली बस के टायर पर भी लगी लेकिन फिर भी सलीम ने बस नहीं रोकी और लगातार बस दौड़ाते रहे। आख़िर में सलीम बस को लेकर एक आर्मी कैंप में पुंच गए और इस तरह उन्होंने अपनी जान पर खेलकर कई लोगों की जान बचा ली।

और पढ़े -   गुजरात दंगो पर झूठ बोलने को लेकर राजदीप सरदेसाई ने अर्नब गोस्वामी को बताया फेंकू

ग़ौरतलब है कि जम्मू एवं कश्मीर के अनंतनाग जिले में सोमवार को अमरनाथ यात्रियों की एक बस पुलिस दल को निशाना बनाकर किए गए आतंकवादी हमले की चपेट में आ गई, जिसमें सात श्रद्धालुओं की मौत हो गई। हमले में पुलिसकर्मियों सहित 14 लोग घायल हुए हैं।

पुलिस महानिरीक्षक मुनीर खान ने बताया कि यह आतंकवादी हमला अमरनाथ यात्रियों को नहीं, बल्कि सुरक्षा बलों को निशाना बनाकर किया गया था।

और पढ़े -   पेट्रोल-डीजल के बेलगाम होते दाम पर केन्द्रीय मंत्री का विवादित बयान कहा, तेल खरीदने वाला नही मर रहा भूखा, सोच समझकर लिया फैसला

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE