हापुड़ | हाल ही में गौरक्षा के नाम पर देश में कई अप्रिय घटना घटित हो चुकी है जिसमे मुस्लिम समुदाय सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ है. फ़िलहाल देश के हालात ऐसे है की कोई भी मुस्लिम परिवार घर पर गाय पालने से डर रहा है. पता नही कब कथित गौरक्षक आ जाये और उन पर गौतस्करी का आरोप लगा दे. मुस्लिम परिवार दहशत में है लेकिन कोई भी उनकी सुनने वाला नही है.

यूपी के हापुड़ देहात में एक ऐसी ही घटना देखने को मिली है जहाँ एक मुस्लिम परिवार अपनी पालतू मृत गाय को दफनाने के लिए तीन दिन तक प्रशासन के चक्कर काटता रहा लेकिन किसी ने उनकी नही सुनी. अंत में गाँव वालो ने ही उस परिवार की मदद की और गाय को दफनाया गया. इस पुरे मामले में मुस्लिम परिवार प्रशासन की बेरुखी से बेहद नाराज दिखाई दिया.

उनका कहना है की अगर कथित गौरक्षक उन पर गौतस्करी का आरोप लगाकर उनकी जान माल की हानि कर देते तो इसका जिम्मेदार कौन होता. दरअसल हापुड़ देहात के गाँव असौडा में एक मुस्लिम परिवार आमिर ने एक गाय पाली हुई थी. कुछ दिन पहले यह गाय अचानक से बीमार हो गयी. इलाज कराने के बावजूद 28 जून को गाय की मौत हो गयी. लेकिन आमिर में इतनी हिम्मत नही थी की वो बाहर निकलकर गाय को दफना सके.

इसलिए आमिर ने प्रशासन से गाय को दफ़नाने की इजाजत मांगी लेकिन उसकी किसी भी अधिकारी ने नही सुनी. इसके बाद वह पुलिस के पास भी गया लेकिन वहां भी उसको निराशा ही हाथ लगी. जब तीन दिन तक गाय को नही दफनाया जा सका तो गाँव के ही लोगो ने उसकी मदद की और गाय को दफनाया गया. आमिर इस पुरे प्रकरण से काफी आहत है. उसका कहना है की सरकार को पालतू गाय को दफ़नाने की इजाजत देनी चाहिए अन्यथा मुस्लिम परिवारों के साथ कुछ भी अनहोनी घटना हो सकती है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE