गुवाहाटी | असम में एक बेहद ही अजीब मामला सामने आया है. यहाँ एक हिन्दू महिला ने पहले एक मुस्लिम शख्स के साथ शादी की और बाद में किन्ही कारणों से आत्महत्या कर ली. लेकिन जब महिला का पति , अपनी पति के शव को लेकर कब्रिस्तान पहुंचा तो उसे वहां घुसने नही दिया गया. बाद में वह शख्स शमसान भी पहुंचा लेकिन वहां भी उसको अन्दर नही आने दिया गया. अंततः पुलिस के हस्तक्षेप के बाद महिला का दाह संस्कार हो पाया.

इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के अनुसार असम के तिनसुकिया के परबतिया की रहने वाली 23 वर्षीय तुलसी दास ने भाग कर एक मुस्लिम शख्स बिट्टू अली के शादी कर ली. लेकिन एक महीने बाद ही तुलसी ने शनिवार को आत्महत्या कर ली. हालाँकि उसने किन कारणों से आत्महत्या की इस बात का अभी खुलासा नही हुआ है. तिनसुकिया के एसपी मुग्धाज्योति देव महंता ने बताया की दोनों पति पत्नी के बीच कोई झगडा नही हुआ था. हमें अभी इस बात की कोई सूचना नही मिली है.

देव महंता ने आगे बताया की जब बिट्टू अली अपनी पत्नी का शव लेकर कब्रिस्तान पहुंचा तो उसको अन्दर नही घुसने दिया गया. असमंजस स्थिति में बिट्टू पत्नी का दाह संस्कार कराने के लिए शमसान भी गया लेकिन वहां भी उसको अन्दर जाने की इजाजत नही मिली. अंत में बिट्टू ने पुलिस की शरण ली और रविवार को तुलसी का शव पुलिस थाने की कस्टडी में छोड़ दिया गया.

देव महंता ने यह भी बताया की हमें इस बात की भी सूचना मिली है की कुछ लोगो ने बीवी का शव शमसान में ले जाने की कोशिश करने के कारण बिट्टू के साथ मारपीट भी की. हालाँकि हमें अभी तक इस बारे में कोई अधिकारिक शिकायत नही मिली है. थाने में तुलसी का शव आने के बाद पुलिस ने उसके माँ बाप से सम्पर्क किया. बात करने पर तुलसी के माँ बाप ने उसका शव स्वीकार कर लिया.

इसके बाद उन्होंने ही तुलसी का अंतिम संस्कार किया. हालाँकि अभी तक उन कारणों की जानकारी नही मिली है जिनकी वजह से तुलसी ने आत्महत्या की. तुलसी के शव का पोस्टमार्टम हो चूका है और रिपोर्ट आनी बाकि है. पुलिस ने बताया की हमने जाँच शुरू कर दी है. इसके बाद ही मामले में कुछ बता पायेंगे.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE