पणजी | बीफ को लेकर पुरे देश में छिडे संग्राम के बीच कुछ ऐसे राज्य भी है जहाँ इसको लेकर कोई जंग छिड़ी हुई नही है. इस पूरी कवायद के पीछे बीजेपी और उससे जुड़े संगठनो का ही हाथ है. ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योकि बीजेपी ही हमेशा से गौमांस और गौतस्करी के खिलाफ मुखर होकर बोलती आई है. लेकिन कुछ राज्यों में बीजेपी का दोहरा चरित्र सामने आ रहा है.

दरअसल पिछले एक साल में गौमांस को लेकर देश में काफी हंगामा हुआ है. गौरक्षा के नाम पर कथित गौरक्षको ने कई लोगो को बेरहमी से पीटा है जिसमे कुछ लोगो को जान से भी हाथ धोना पड़ा है. विपक्ष हमेशा से आरोप लगाता आया है की हमला करने वाले कथित गौरक्षको को बीजेपी का मौन समर्थन प्राप्त है. यह सही भी प्रतीत होता नजर आता है क्योकि कई मामलो में बीजेपी नेताओ की संलिप्त भी पायी गयी है.

लेकिन उत्तर में गाय को माता मानने वाली बीजेपी के लिए उत्तर पूर्व और गोवा जैसे राज्यों में मापदंड बदल जाते है. क्योकि यहाँ वो गौहत्या या गौमांस पर प्रतिबंध लगाने की बात नही करती. इसका एक उदाहरण गोवा की विधानसभा में देखने को मिला. जहाँ मुख्यमंत्री मनोहर परिकर ने सदन को आश्वत करते हुए कहा की प्रदेश में बीफ की कमी नही होनी दी जायेगी चाहे इसके लिए हमें पडोसी राज्य से आयत ही क्यों न करना पड़े.

बीजेपी विधायक नीलेश कबराल के एक सवाल के जवाब में मनोहर परिकर ने कहा की मैं आपको भरोसा दे सकता हूं कि पड़ोसी राज्य से आने वाले बीफ की जांच उचित तरीके से और अधिकृत चिकित्सक द्वारा की जाएगी. बीफ की खपत पर उन्होंने कहा की यहाँ से करीब 40 किलोमीटर दूर पोंडा स्थित गोवा मीट कांप्लेक्स में राज्य के एकमात्र वैध बूचड़खाने में रोजाना लगभग 2,000 किलोग्राम बीफ तैयार होता है. बाकी के बीफ की आपूर्ति कर्नाटका से की जाती है.

मनोहर परिकर ने आगे कहा की उनकी सरकार की गोवा मीट काम्प्लेक्स के लिए पडोसी राज्यों से लाये जाने वाले जानवरों पर रोक लगाने का कोई इरादा नही है. उधर मनोहर परिकर के बयान पर राजनितिक प्रतिक्रिया भी आनी शुरू हो गयी है. दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने ट्वीट कर कहा,’यहां गो सेवा के नाम पर हत्या औऱ वहां राजनीति के लिए गोहत्या की पर्याप्त व्यवस्था की गारंटी!!’


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE