simi-encounter-111

भोपाल सेंट्रल जेल से 8 सिमी सदस्यों की कथित फरारी और फिर भोपाल से 10 किमी दूर जंगल में हुए सिमी सदस्यों के कथित एनकाउंटर को लेकर एक चौकाने वाला तथ्य सामने आया हैं. मप्र एंटी-टेरर स्क्वाड के चीफ संजीव शमी के अनुसार आठों ही सिमी कार्यकर्ताओं के पास एनकाउंटर के समय कोई भी हथियार मौजद नहीं था.

MP एटीएस प्रमुख संजीव शमी ने बुधवार को NDTV से बातचीत में कहा कि जिन 8 सिमी सदस्यों को स्पेशल टास्क फोर्स ने मुठभेड़ में मारा था उनके पास कोई हथियार नहीं था. शमी का ये दावा मध्यप्रदेश पुलिस के उस दावें के विपरीत हैं जिसमे कहा गया था कि मारे गए सिमी सदस्यों के पास चार देसी पिस्तोल और चाक़ू थें. और वह पुलिस पर फायरिंग कर रहे थे.

उन्होंने आगे कहा कि पुलिस तब भी अधिकतम फोर्स का प्रयोग कर सकती है जब कि उन पर गोलियां नहीं चलाई गई हों. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि पुलिस को पूरा अधिकार है कि वह भाग रहे संदिग्ध आतंकियों को गोली मार सकते हैं. कथित एनकाउंटर के बाद भोपाल पुलिस के आईजी योगेश चौधरी ने दावा किया था कि मारे गए लोगों के पास चार देसी पिस्तोल थी.

इससे पहले मध्य प्रदेश के गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने एनकाउंटर से पहले दावा किया था कि सिमी सदस्यों के पास कोई हथियार नहीं हैं. हालांकि बाद में उन्होंने कहा था कि एनकाउंटर के दौरान उनके पास हथियार थें.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें