uri2-580x395

रविवार तड़के जम्‍मू-कश्‍मीर के उरी में आर्मी प्रशासनिक बेस पर हुए आतंकी हमलें में 17 जवान शहीद हुए. इन जवानों में ज्यादातर जवान की टेंटों में लगी आग के कारण मौत हुई. ड्यूटी में बदलाव होने के कारण ज्यादातर जवान टेंट में थे. ऐसे में ग्रेनेड हमले के चलते टेंटों में लगी आग के कारण ज्यादातर जवानों की मौत हुई.

रविवार सुबह करीब पांच बजे के आस-पास बेस में चार फिदायीन हमलावर ने घुसकर अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी थी. साथ ही उन्होंने ग्रेनेड भी फेंके थे. तीन घंटे चली जवाबी कार्रवाई में सभी आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया गया.

इस हमले में कम से कम 30 जवान घायल हो गए और उनको इलाज के लिए यहां से 100 किमी दूर श्रीनगर पहुंचाया गया. डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशन रणबीर सिंह ने इन आतंकियों को पाकिस्तानी बताया.

लेफ्टिनेंट जनरल रणबीर सिंह ने मिले हथियारों और सामानों की जानकारी देते हुए कहा, “चार एके-47 राइफल, चार अंडर बैरल ग्रेनेड लॉन्चर्स और कुछ दूसरे ऐसे हथियार मिले हैं, जिनका इस्तेमाल जंग के दौरान होता है.” उन्होंने आगे कहा कि  “मारे गए आतंकियों के पास से पाकिस्तान में बने हथियार मिले हैं”


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें