देशवासियों में जम्मू-कश्मीर के उड़ी में सेना बेस कैंप पर हुए आतंकी हमले के कारण गुस्सा हैं. वहीँ दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी के नेताओं द्वारा सैनिकों की शहादत के अपमान का सिलसिला नहीं रुक रहा हैं. पहले राजस्थान में सैनिक कल्याण मंत्री कालीचरण ने शहीद की अंतिम विदाई का मजाक उड़ाया और अब भाजपा सांसद शरद त्रिपाठी ने ऐसी शर्मनाक हरकत की जिसकी वजह से वे पिटते-पिटते बचे और उन्हें भागने के लिए मजबूर होना पड़ा.

और पढ़े -   बुलेट ट्रेन को लेकर आशुतोष राणा का तंज कहा, उधार की 'चुपड़ी' रोटी से अच्छी श्रम से अर्जित की गयी 'सुखी' रोटी

दरअसल उड़ी में शहीद हुए जवान गणेश शंकर यादव के घर संत कबीरनगर श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे. इस दौरान वह परिजनों को सांत्वना और मदद देने की बजाय, वहाँ अंगोछा बिछाकर लोगों से चंदा इकट्ठा करने में जुट गए. उनकी यह हरकत अमर शहीद के परिवार सहित वहां मौजूद सभी लोगों को अपमानजनक लगी और उन्होंने सांसद की इस शर्मनाक हरकत का विरोध किया.

और पढ़े -   हिन्दू से मुस्लिम बनी दलित दंपत्ति को मिल रही जान से मारने की धमकी, पत्र लिख योगी सरकार से की सुरक्षा की मांग

शहीद के परिवार वालों ने भाजपा सांसद को लताड़ लगाते हुए कहा कि मेरा बेटा देश के लिए शहीद हुआ, चंदे से मदद नहीं चाहिए. गुस्साए लोगों का कहना था कि देश के महान सपूत ने देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों का बलिदान दिया है, और उसके नाम पर चंदा माँगकर शरद त्रिपाठी ने उसकी शहादत का अपमान किया है.

और पढ़े -   पीएम मोदी का ट्व‍िटर पर गाली देने वालों को फॉलो करने का सिलसिला अब भी जारी

स्थानीय लोगो के अनुसार मामला बिगड़ता देख सांसद शरद त्रिपाठी मौके से भाग निकले वरना गुस्साए लोग उनकी पिटाई भी कर सकते थे. लोगों ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से सांसद शरद त्रिपाठी को मुख्य सचेतक पद से हटाने और पार्टी से निकालने की मांग भी की है. सांसद शरद त्रिपाठी उसके बाद से ही मीडिया के सामने नहीं आ रहे हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE