uri2-580x395

रविवार को कश्मीर के उरी में सेना बेस कैंप पर हुए आतंकी हमले को लेकर के नया खुलासा हुआ हैं. यूपी पुलिस को हमले से एक हफ्ते पहले ही इस बारें में जानकारी मिल गई थी.

रामपुर के आरटीआई एक्टिविस्ट दानिश खान इस बारें में दावा किया कि कश्मीर में आतंकी हमले को लेकर उन्हें पहले से ही जानकारी थी और एक सप्ताह पहले उन्होंने जिला पुलिस अधीक्षक को पत्र लिखकर इस बारें में अवगत भी करा दिया था.

और पढ़े -   अंतराष्ट्रीय न्यायालय में कुलभूषण जाधव का मामला उठाना भारत की सबसे बड़ी गलती - काटजू

उन्होंने आगे बताया कि बिहार के पटना निवासी शबाना हासमी नाम की एक महिला ने फेसबुक पर बिहार के पटना निवासी शबाना हासमी नाम की एक महिला ने उनसे चैटिंग के दौरान बताया था कि वह ओमान में रहती हैं. उनके पड़ोस में रहने वाले दो लोग POK के बरनाला निवासी इरफान यूनुस नाम के एक शख्स को फसाद के लिए भारी तादात में पैसा भेज रहे हैं.

और पढ़े -   तीन सालो में बेरोजगारों के नहीं आये 'अच्छे दिन', मोदी सरकार रोजगार पैदा करने के मामले में मनमोहन सरकार से बहुत पीछे

उसने पैसा भेजने वालों को इरफान का पिता और  दुसरे शक्स को भाई बताया था. शबाना ने  इरफान यूनुस का फोटो और मोबाइल नम्बर भी दानिश खान से व्हाट्सअप पर शेयर किया था और उसके विजिट वीजा का नम्बर पता कर देने को भी कहा था.

जिसके बाद दानिश ने 8 सितम्बर को इसकी जानकारी पत्र लिखकर रामपुर के एसपी को भी दी. इसके बाद  सुरक्षा और इन्टेलिजेंस एजेन्सियों ने उनसे सम्पर्क कर जानकारी भी ली थी. हालांकि दानिश खान का कहना है कि उनको मिली जानकारी का कोई लिंक उरी में हुए हमले से था या नहीं यह सुरक्षा एजेंसी की जांच से ही साफ हो सकेगा.

और पढ़े -   झारखंड हत्याकांड पर NHRC ने लिया संज्ञान, कहा - सभ्य समाज ऐसी हत्याओं की नहीं देता इजाजत

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE