man

रविवार को रेडियो पर ‘मन की बात’ के माध्यम से देश को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि यह दिवाली सुरक्षा बलों को समर्पित हो.

‘मन की बात’ कार्यक्रम के 25वें प्रसारण में प्रधानमंत्री ने देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लव भाई पटेल और दिवगंत प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी को याद करते हुए कहा कि 31 अक्टूबर को सरदार वल्लभ भाई पटेल की जन्मजयंती का पर्व है, साथ ही श्रीमती गांधी की पुण्यतिथि भी है.

उन्होंने आगे कहा, पीड़ा है कि सरदार साहब की जन्म-जयंती पर हज़ारों सरदारों को श्रीमती गाँधी की हत्या के बाद मौत के घाट उतार दिया गया. उन्होंने कहा, एकता के लिए जीवनभर जीने वाले महापुरुष के जन्मदिन पर ही सरदारों के साथ जुल्म इतिहास का पन्ना हम सब को पीड़ा देता है.

पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘लेकिन, इन संकटों के बीच में भी, एकता के मंत्र को ले करके आगे बढ़ना है. विविधता में एकता यही देश की ताकत है. भाषाएं अनेक हों, जातियां अनेक हों, पहनावे अनेक हों, खान-पान अनेक हों, लेकिन अनेकता में एकता, ये भारत की ताकत है, भारत की विशेषता है.

उन्होंने कहा,  ‘हर पीढ़ी का एक दायित्व है. हर सरकारों की जिम्मेदारी है कि हम देश के हर कोने में एकता के अवसर खोजें, एकता के तत्व को उभारें. बिखराव वाली सोच, बिखराव वाली प्रवृत्ति से हम भी बचें, देश को भी बचाए. सरदार साहब ने हमें एक भारत दिया, हम सब का दायित्व है श्रेष्ठ भारत बनाना. एकता का मूल-मंत्र ही श्रेष्ठ भारत की मजबूत नींव बनाता है.’


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें