केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्य मंत्री डॉ. संजीव बालियान सोमवार को अपने गुस्से पर काबू नहीं पा सके और ऐसा कुछ बोल गए जिस पर विवाद खड़ा हो सकता है.

दरअसल हुआ यूं कि टोंक जिले के मालपुरा स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद में सोमवार को राष्ट्रीय भेड़ एवं किसान मेला आयोजित हुआ, जिसमें मंत्री डॉ. संजीवकुमार बालियान मुख्य अतिथि थे. वे जब संस्थान की फील्ड विजिट कर वापस लौटे तो उन्हें एक के बाद एक तीन संगठनों के घेराव का सामना करना पड़ा.

और पढ़े -   सुरक्षा के नाम पर अब मोदी सरकार, रेलवे टिकटों पर वसूलेगी दो फीसदी सेफ्टी सेस

परेशान किसान बोला सर आत्महत्या कर लूंगा, केंद्रीय मंत्री बोले- जा कर ले फिर

मालपुरा के ज्वैलर्स और सवाई माधोपुर से आए खाद-बीज विक्रेताओं के घेराव से परेशान मंत्री बालियान मुख्य समारोह में पहुंचे ही थे कि वहां कई किसान अपनी-अपनी समस्याएं लेकर मंच पर पहुंच गए. इन्हीं में से एक किसान गिर्राज जाट जो कि अरनिया कांकड़ का रहने वाला था मंच पर जाकर केंद्रीय मंत्री को अपनी पीड़ा बयान करना शुरू कर दी.

और पढ़े -   निकाह के वक्त तीन तलाक का इस्तेमाल न करने की दुल्हों को सलाह देंगे काजी: AIMPLB

गिर्राज का कहना था कि पिछले पंद्रह दिनों से उसके गांव में विद्युत निगम की लापरवाही से लाइट नहीं आ रही है, जिसके चलते उसके खेत पर लगे लगभग 300 से अधिक पौधे जलना शुरू हो गए हैं. केंद्रीय मंत्री ने जब किसान को कार्यक्रम के बाद इस मामले में मिलने की बात कही तो उसने आत्महत्या करने के लिए कहा. इस पर मंत्री बालियान को गुस्सा आ गया और वह बोल बैठे कि-जा करले फिर.

और पढ़े -   शेहला रशीद पर भद्दा ट्वीट करने वाले अभिजीत को प्रशांत भूषण ने बताया संप्रदायिक ठग कहा, सिंगर के फोलोवर है मोदी भक्त

इस पूरे मामले के बाद तुरंत ही मंच पर मौजूद अविकानगर के अधिकारी और सुरक्षाकर्मी किसान गिर्राज को मंच से हटाकर नीचे ले गए और फिर उसे पांडाल से बाहर कर दिया गया. (pradesh18)


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE