una1

गुजरात के उना में गौरक्षा के नाम पर भगवा संगठन के कार्यकर्ताओं द्वारा दलित युवकों की पिटाई पुलिस की मिलीभगत से की गई थी. इस सबंध में सीआईडी ने 4 पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया है.

दरअसल जिस लाठी से दलित युवकों को पीटा गया था वह पुलिस की लाठी थी. इस पर सवाल उठाये जाने पर पुलिस की मिलीभगत का शक पैदा हुआ था. हालांकि पुलिसवालों ने खुद को बचाने के लिए आरोपियों को बचाने के लिए गाय चोरी की फर्जी शिकायत भी दर्ज कराई थी.

और पढ़े -   बाबरी मस्जिद शहादत मामले की आज से रोजाना सीबीआई अदालत करेगी सुनवाई

सीआईडी की चार्जशीट के मुताबिक स्थानीय पुलिस कर्मियों की मिलीभगत से ही दलितों की पिटाई को अंजाम दिया गया था. घटना के अगले दिन गाय चोरी की फर्जी शिकायत दर्ज कराई गई. पुलिस अच्छे से जानती थी कि शिकायत फर्जी है बावजूद इसके सरकारी दस्तवेज बनाए गए.

सीआईडी ने इस मामलें में एक पुलिस इंस्पेक्टर, एक सब इंस्पेक्टर और 2 कॉन्स्टेबल को गिरफ्तार किया हैं.

और पढ़े -   अंतराष्ट्रीय न्यायालय में कुलभूषण जाधव का मामला उठाना भारत की सबसे बड़ी गलती - काटजू

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE