नई दिल्ली: दिल्ली सरकार के आदेश पर जेएनयू के विवादास्पद कार्यक्रम के वीडियो क्लिपिंग के सेट की फारेसिंक जांच से पता चला है कि दो वीडियो में ‘जोड़ तोड़’ हुई और क्लिप्स में जो व्यक्ति मौजूद नहीं थे, उनकी आवाज जोड़ी गई थी।

फॉरेंसिक रिपोर्ट के मुताबिक जेएनयू के विवादास्पद कार्यक्रम के दो वीडियो में 'जोड़-तोड़' : सूत्र

सूत्रों ने बताया कि दिल्ली सरकार द्वारा हैदराबाद स्थित ट्रूथ लैब को भेजे गए सात वीडियो में से दो में जोड़ तोड़ पाया गया, जबकि बाकी वास्तविक है। उन्होंने कहा, ‘हेरफेर किए गए क्लिप्स में वीडियो को संपादित किया गया और आवाजों को जोड़ दिया गया। पूरक के साथ मुख्य रिपोर्ट दिल्ली सरकार को सौंपी गई है।’ यह पूछे जाने पर कि क्या जिन आवाजों को जोड़ा गया वे व्यक्ति छेडछाड़ किए क्लिप्स में नजर नहीं आए, उन्होंने कहा ‘बेशक’।

और पढ़े -   सरकारी मदद देने की एवज में राजस्थान की बीजेपी सरकार ने लोगो के घरो के बाहर लिखा, 'मैं बेहद गरीब हूँ'

अरविंद केजरीवाल नेतृत्व वाली सरकार ने जेएनयू कैंपस में 9 फरवरी को कथित देशविरोधी नारेबाजी की घटना की तफ्तीश के लिए 13 फरवरी को मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए थे। इससे पहले कथित तौर पर बाहरी लोगों द्वारा भारत विरोधी नारेबाजी करने का एक वीडियो सामने आने के बाद मामला और उलझ गया था।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE