भारतीय रिजर्व बैंक की और से नोटबंदी को लेकर जारी किये गए आकड़ों के सामने आने के बाद से ही मोदी सरकार की नोटबंदी को लेकर कड़ी आलोचना हो रही है. ऐसे में अब खुद पीएम मोदी ने इन आलोचना का जवाब दिया है.

पीएम मोदी ने नोटबंदी को उचित ठहराते हुए कहा कि उनकी सरकार देश के हित में ‘बड़े और सख्त’ फैसले लेने से परहेज नहीं करेगी. प्रधानमंत्री ने म्यामांर के शहर यंगून में ये बात कही है. उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय हित में, हमें बड़े और सख्त फैसले लेने में कोई झिझक नहीं है, क्योंकि हमारे लिए देश राजनीति से ऊपर है. चाहे सर्जिकल हमले हों नोटबंदी हो या जीएसटी, सभी फैसले बिना किसी भय या झिझक के किए गए.

नोटबंदी का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि यह कदम काले धन पर काबू पाने के लिए उठाया गया और इससे ऐसे लाखों लोगों की पहचान करने में मदद मिली जिनके बैंक खातों में करोड़ों रुपये थे, लेकिन वे कभी आयकर नहीं देते थे. उन्होंने कहा कि पिछले तीन महीनों में दो लाख से ज्यादा कंपनियों का पंजीयन रद्द कर दिया गया क्योंकि उनके कालेधन के शोधन में शामिल होने का पता लगा था.

उन्होंने कहा, भ्रष्टाचार पर काबू पाने के लिए, हमने 500 और 1000 रुपये के नोटों पर रोक लगाई. कुछ भ्रष्ट लोगों के गलत कार्यों का खामियाजा 125 करोड लोग भुगत रहे थे. यह हमें स्वीकार्य नहीं था. उन्होंने कहा कि इस बारे में कोई सुराग नहीं था कि काला धन कहां से आ रहा था और कहां जा रहा था.

गौरतलब रहें कि विपक्ष ने नोट बंदी को पूरी तरह से फ़ैल करार देते हुए प्रधान मंत्री से इस फैसले को लेकर देश की जनता से कान पकड़ कर माफ़ी मांगने को कहा है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE