aala

केंद्र सरकार द्वारा ट्रिपल तलाक का विरोध करते हुए सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर किया जाने के बाद दरगाह आला हजरत से साफ कर दिया गया है कि मुसलमान किसी भी हाल में शरीयत का दामन नहीं छोड़ेंगे.

शनिवार को दरगाह आला हजरत के प्रवक्ता एवं तहरीक तहफ्फुज-ए-सुन्नियत के महासचिव मुफ्ती मुहम्मद सलीम नूरी ने कहा कि तीन तलाक पर मुस्लिम समाज में कोई इख्तेलाफ (आपसी विरोध) नहीं है. सभी तीन तलाक को तीन ही मानते हैं. एक बार में तीन बार तलाक कहने से तलाक हो जाएगा.

उन्होंने आगे कहा कि एक-दो महिलाएं उकसावे में आकर इसका विरोध कर रही हैं तो उनकी आवाज को तमाम मुसलमानों की आवाज नहीं माना जाना चाहिए. उन्होंने सवाल उठाते हुए पूछा कि जिस तरह तीन बार कुबूल-कुबूल-कुबूल कहकर एक अजनबी महिला बीवी बन जाती है, तो फिर तीन तलाक का विरोध क्यों?

उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कितना ही निशाना क्यों न बना लें, मुस्लिम समाज शरई फैसलों को मानता रहा है और मानता रहेगा. साथ ही उन्होंने मुसलमानों को ह अहसास न कराएं कि मुसलमानों की मजहबी आजादी खतरे में है. उन्होंने कहा, मुसलमान दिखा देंगे कि वे मुल्क के संविधान के साथ इस्लामी शरीयत पर भरोसा रखते हैं.

नूरी ने आगे कहा, 14-15 अक्टूबर को होने वाले उर्स-ए-नूरी में भी हुकूमत के हलफनामे के खिलाफ आवाज उठाई जाएगी. जिसमे मुसलमानों को समझाया जाएगा कि तलाक के अधिकार का गलत इस्तेमाल न करें, अपने शरई मसाइल लेकर इधर-उधर न जाएं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें