मुंबई | देश आजाद होने के बाद जनता की सुरक्षा के लिए पुलिस विभाग को बनाया गया. यह अकेला ऐसा विभाग है जो दिन रात जनता की सुरक्षा करने के लिए तैयार रहता है. रात रात भर पुलिस कर्मी हमारी सुरक्षा में तैनात रहते है. जब देर रात कोई शख्स सडक पर निकलता है तो शायद उसको डर लगे लेकिन पुलिस कर्मी को देखते ही उसके अन्दर एक उर्जा सी आ जाती है की चलो अब उसको कोई खतरा नही क्योकि पुलिस उसकी सुरक्षा में खडी है.

लेकिन क्या हो जब सुरक्षा में लगे हुए लोग ही भक्षी बन जाए. ऐसे में देर रात को किसी काम से बाहर निकलने वाला शख्स किस पर यकीन करे. दरअसल मुंबई में एक ऐसी ही घटना सामने आई है जहाँ पुलिस ने एक ट्रांसजेंडर के साथ बेहद ही निंदनीय बर्ताव किया है. उन्होंने उसका यौन शोषण करने का प्रयास किया. यही नही ट्रांसजेंडर ने भाग कर उन पुलिस कर्मियों से अपनी जान बचाई.

मिली जानकारी के अनुसार यूनाइटेड नेशन डेवलपमेंट प्रोग्राम के लिए काम करने वाली एक समलैंगिक एक्टिविस्ट मेघा ने मुंबई के खेरवाडी पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है की पेट्रोलिंग कर रहे तीन पुलिसकर्मियों ने देर रात उसका यौन शोषण करने का प्रयास किया. मेघा ने बताया की जब वो देर रात करीब ढाई बजे किसी कार्यक्रम से अपने घर लौट रही थी तो पेट्रोलिंग कर रहे तीन पुलिस कर्मियों ने उसको रोक लिया.

शिकायत में कहा गया की यह घटना बांद्रा में हुई. यहाँ ब्रिज उतरते ही एक पुलिसकर्मी ने उसको गाड़ी में बैठ जाने के लिए कहा. मिड डे मिल की खबर के अनुसार जब मेघा ने इसका विरोध किया तो पुलिस वालो ने उसका ब्रेस्ट दबाकर पुछा की देखे तो ये असली है या नही. बाकी के दो पुलिसकर्मियों ने उससे सेक्स करने के लिए कहा. मना करने पर उन्होंने डंडे से मारने की भी धमकी दी. फ़िलहाल पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE