kalam1

देश के पूर्व राष्ट्रपति और मिसाइल मैन के नाम से प्रसिद्ध डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम की रामेश्वरम में एक प्रतिमा के अनावरण को मुस्लिम धर्मगुरूओं ने गैर इस्लामी बताते हुए कहा कि इस कार्यक्रम में अधिकतर मुस्लिमों ने हिस्सा नहीं लिया.

कलाम की पहली पुण्यतिथि पर बुधवार को केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू और मनोहर पर्रिकर ने तमिलनाडु के रामेश्वरम में उनके राष्ट्रीय स्मारक का शिलान्यास किया.   रामनाथपुरम जिला जमातुला उलेमा काउंसिल के पदाधिकारियों ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति का वे काफी सम्मान करते हैं लेकिन उन्होंने कहा कि दिवंगत व्यक्ति की प्रतिमा गैर इस्लामी है और इस्लामी मान्यताओं के खिलाफ है.

और पढ़े -   रेलवे यात्रियों को अपनी सुरक्षा के लिए देने होंगे अतिरिक्त पैसे, मोदी सरकार जनरल टिकटों पर लगा रही सुरक्षा सेस

एक बयान में काउंसिल प्रमुख हबीबुल्ला हजरत और सचिव अब्दुर रहमान ने कहा, ‘‘प्रतिमा लगाए जाने की हम सख्त निंदा करते हैं.’’ हालांकि उलेमाओं ने कहा कि उन्होंने सिर्फ मौखिक ऐतराज जताया है और कार्यक्रम के खिलाफ कोई प्रदर्शन नहीं करना चाहते हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE