jas

प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी द्वारा तीन तलाक को लेकर महोबा रैली में दिए गये बयान के बाद सोशल मीडिया पर आलोचकों ने उनकी धर्मपत्नी जसोदाबेन के लिए न्याय मांगने के लिए मुहीम शुरू कर दी हैं.

दरअसल पीएम ने ‘परिवर्तन रैली’ में कहा था कि तीन तलाक के मुद्दे पर देश की कुछ पार्टियां वोट बैंक की भूख में 21वीं सदी में मुस्लिम औरतों से अन्याय करने पर तुली हैं. क्या मुसलमान बहनों को समानता का अधिकार नहीं मिलना चाहिए. उन्होंने कहा था  ‘‘मेरी मुसलमान बहनों का क्या गुनाह है. कोई ऐसे ही फोन पर तीन तलाक दे दे और उसकी जिंदगी तबाह हो जाए. क्या मुसलमान बहनों को समानता का अधिकार मिलना चाहिये या नहीं.

और पढ़े -   जुनैद के संदिग्ध हत्यारों की CCTV फुटेज आई सामने, परिजनों को दिखाई गई तस्वीरें

प्रधानमन्त्री के इस बयान के बाद तुसार मोहपात्रा ने लिखा कि पहले नरेंद्र मोदी जसोदाबेन को पहले न्याय देंना चाहिए फिर तीन तलाक पर मुस्लिम महिलाओं को न्याय देने की बात करनी चहिये.

वहीँ राणा अयूब ने कहा कि मोदी मुस्लिम महिलाओं के अधिकार की बात तो कर रहे हैं लेकिन उनकी पत्नी जसोदा बेन जिस सम्मान की हकदार हैं. उन्हें वह भी देना चाहिए.

इसके अलावा रमनदीप सिंह ने सवाल उठाया कि मुस्लिम औरतों को तीन तलाक़ से मुक्ति मिलनी चाहिए, लेकिन क्या जशोदाबेन को न्याय नही मिलना चाहिए?


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE