modi45

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के लाल परेड मैदान में शौर्य सम्मान के अवसर पर पीएम मोदी ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि सेना बोलती नहीं बल्कि पराक्रम करती है.

पीएम ने कहा कि उरी हमले के बाद उन दिनों रोज मेरे बाल नोच लिए जाते थे, लोग कहते थे मोदी सोता है कुछ करता नहीं, जैसे सेना और रक्षा मंत्री नहीं बोलते. लेकिन मैं उन लोगों से कहना चाहता हूं कि हमारी सेना बोलती नहीं, बल्कि पराक्रम करती है। वैसे ही हमारे रक्षा मंत्री बोलते नहीं, काम करते हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि यमन में फंसे लोगों को भारतीय सेना ने बाहर निकाला. यमन में भारतीयों को निकालते वक्त सेना ने कुछ पाकिस्तानी नागरिकों को भी संकट की घड़ी में मदद किया. यह मानवता की एक मिसाल है,  प्रधानमंत्री ने कहा कि कश्मीरियों की पत्थरबाजी के बावजूद हमारे जवानों ने बाढ़ में कश्मीरियों की मदद की. सेना के जवानों ने कश्मीर और केदारनाथ की बाढ़ में अपने आपको खपाया.

उन्होंने आगे कहा,  हम चैन की नींद सो जाये तो सेना को खुशी मिलती है, लेकिन जागने के समय भी सो जाये तो सेना माफ नहीं करती है. हमारे आर्मी का सबसे बड़ा हथियार उसकी इच्छाशक्ति, दृ्ढ़ता व सवा अरब लोगों का विश्वास है. हिंदुस्तान का इतिहास गवाह है कि हमारे पूर्वजों ने एक इंच जमीन को अपना बनाने के लिए झगड़ा नहीं किया है. दोनों विश्वयुद्ध के दौरान  डेढ़ लाख सैनिकों ने अपना जीवन गंवाया. दुनिया हमारी सेना के पराक्रम को भूला नहीं सकती है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि शौर्य स्मारक हमारे देश के आने वाली पीढ़ियों के लिए तीर्थस्थान है. सेना को स्किल डेवलेपमेंट की ट्रेनिंग दी जायेगी ताकि उन्हें रिटायरमेंट के बाद नौकरी के लिए संघर्ष नहीं करना पड़े.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें