nax

सुप्रीम कोर्ट को दी गई जानकारी के अनुसार दुनिया भर में खूंखार आतंकी संगठनों से प्रभावित देशों में भारत का तीसरा स्थान हैं. आइएस और बोको हराम की हिंसा से प्रभावित क्षेत्रों के बाद भारत आतंकवाद और उग्रवाद के कारण होने वाली मौतों के मामले में तीसरे पायदान पर है.

शुक्रवार को छत्तीसगढ़ सरकार ने सर्वोच्च न्यायालय को जानकारी देते हुए कहा कि राज्य में आतंकवाद से प्रभावित होने के बावजूद जम्मू-कश्मीर की तुलना में ज्यादा लोग नक्सलियों के हाथों छत्तीसगढ़ में मारे जा रहे हैं.  अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता के अनुसार जम्मू कश्मीर में तैनात सुरक्षाकर्मीयों की तुलना में छत्तीसगढ़ में सुरक्षाकर्मीयों की संख्या ज्यादा हैं.

मेहता ने आगे बताया कि आतंकवाद से प्रभावित और आतंकवाद से जुड़ी मौतों के मामले में आइएस और बोको हराम से प्रभावित देशों के बाद भारत का दुनिया में तीसरा स्थान है.  अमेरिका के “नेशनल कॉन्सॉर्शियम फॉर द स्टडी ऑफ टेररइज्म एंड रिस्पॉन्स टू टेररइज्म” के रिपोर्ट के अनुसार 2014 में छत्तीसगढ़ में 76 हमले हुए थे जबकि 2015 में इनकी संख्या 167 हो गई.

भारत के गृह मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार 2010 से 2015 तक नक्सल हमलों में 2162 आम नागरिक और 802 सुरक्षा बल मारे गए. मरने वालों में ज्यादातर आदिवासी थे.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

Facebook Comment

Related Posts

loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें