पहले विश्व हिन्दू परिषद ने छात्राओं के लिए कैंप लगाया और अब आर्य समाज से जुड़े आर्यवीर दल लड़कियों को इस तरह का प्रशिक्षण दे रहा है. इसके लिए सात दिवसीय विशेष प्रक्षिशण शिविर 'आर्य वीरांगना चरित्र निर्माण एवं आत्मरक्षा शिविर' के नाम से अलीगढ़ के आर्य समाज मंदिर परिसर में आयोजित किया गया.

उत्तरप्रदेश में हथियार ट्रेनिंग कैंप का सिलसिला रुकने का नाम नहीं ले रहा हैं. पहले दुर्गा वाहिनी की ओर से प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में महिलाओं को हथियारों की ट्रेनिंग का कैंप लगाया गया था और अब आर्यवीर दल नामक एक कट्टरपंथी संगठन ने इस तरह के कैंप का अलीगढ में आयोजन किया हैं.

इन ट्रेनिंग कैम्पों में तलवार, गन, जूडो-कराटे, लाठियां आदि चलाने की ट्रेनिंग दी जा रही हैं मानो किसी जंग की तैय्यारी की जा रही हो. ‘आर्य वीरांगना चरित्र निर्माण एवं आत्मरक्षा शिविर’ के नाम सेलीगढ़ के आर्य समाज मंदिर परिसर में कैंप लगाया गया हैं.

दुर्गा वाहिनी की ओर से वाराणसी में महिलाओं को हथियारों की ट्रेनिंग देने के बाद अब आर्यवीर दल ने एक ट्रेनिंग कैंप का आयोजन किया, जिसमें लड़कियों और महिलाओं को हथियार चलाने की ट्रेनिंग दी गई. इन ट्रेनिंग कैम्पों में आत्मरक्षा के लिए तलवार, गन, जूडो-कराटे के अलावा 'लव जिहाद' से बचने की ट्रेनिंग लड़कियों को दी जा रही है. ऐसे में सवाल यह उठता है कि क्या वाकई में ऐसे हालात उत्पन्न हो गए हैं कि महिलाओं और लड़कियों को ऐसी ट्रेनिंग दी जाए.

इन ट्रेनिंग कैंपो के जरिये एक खास समुदाय के खिलाफ नफरत फैलाई जाने की बात भी कही जा रही हैं जिसमे लव जिहाद’ जैसे मुद्दे के नाम का सहारा लिया जा रहा हैं.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें