police-generic_650x400_61452839851

दक्षिण एशिया के चार देशों में अल्पसंख्यकों पर होने वाले यौन और लैंगिक अत्याचार में पुलिस की संलिप्ता पर जारी की गई रिपोर्ट में भारत भी शामिल हैं.

दक्षिण एशियाई मानवाधिकार असोसिएशन की ओर से जारी इस रिपोर्ट के अनुसार यौन और लैंगिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ होने वाले मानवाधिकार उल्लंघन के करीब आधे मामलों में पुलिस की संलिप्तता पाई गई है. इस रिपोर्ट में वर्ष 2014 और 2015 में लैंगिक अल्पसंख्यकों के मानवाधिकार उल्लंघन के 156 से ज्यादा मामलों कों शामिल किया गया है.

और पढ़े -   आयकर अदालत ने माना - मनी लॉन्ड्रिंग में खुद शामिल थे एनडीटीवी के प्रमोटर प्रणय रॉय

इस रिपोर्ट में भारत के 16, बांग्लादेश के 56, नेपाल के 62 और श्रीलंका के 22 मामले शामिल हैं. रिपोर्ट के अनुसार ‘उल्लंघन करने वालों में सबसे ज्यादा पुलिस वाले होते हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि मानवाधिकार उल्लंघन के पीड़ितों की आयु सीमा 14 से 57 वर्ष के बीच है, लेकिन इसके सबसे ज्यादा शिकार 20-41 वर्ष आयु वर्ग के लोग हुए हैं.

और पढ़े -   जंतर-मंतर पर तमिलनाडु के किसानों ने विरोध में बिछाए सड़कों पर नर कंकाल

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE