khali

तीन तलाक के मुद्दे पर केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू के बयान जिसमे उन्होंने कहा था कि पीएम मोदी का इस मामले में नाम नही लिया जाना चाहिए पर पलटवार करते हुए मौलाना खालिद राशिद फिरंगी महली ने कहा कि वो मना कर दें कि नरेंद्र मोदी मुसलमानों के प्रधानमंत्री नहीं हैं. अगर ऐसा है तो हम इस मामले में पीएम मोदी का नाम लेना बंद कर देंगे.

IBN 7 चैनल से बातचीत में उन्होंने कहा कि देश के संविधान ने हमें धर्म की आजादी दी है. उसमें किसी भी तरह की दखल अंदाजी न की जाए. उन्होंने कहा कि हमारा किसी से कोई विरोध नहीं है. हम सिर्फ इतना चाहते हैं कि जिस तीन तलाक के देश में एक फीसदी से भी कम मामले हैं, उसे तूल न दिया जाए. देश में उसे हौवा बनाकर न पेश किया जाए.

मौलाना खालिद राशिद ने कहा, एक महिला संगठन ने इस मामले में फर्जी आंकड़े पेश किए हैं, जिसे देश सच मान रहा है. तीन तलाक से महिलाओं के उत्पीड़न के सवाल पर उन्होंने कहा, किसी का कोई उत्पीड़न नहीं हो रहा है. ये शरीयत का मामला है. उन्होंने सवाल करते हुए पूछा कि निकाह भी तो तीन बार कुबूल बोलने पर हो जाता है. अब क्या  आप इस पर भी सवाल उठाएंगे?

IBN 7 से बातचीत के अनुसार उन्होंने आगे कहा कि यह पूरा मामला ही गलत उठाया गया है. शबनम बानो को उसका शौहर परेशान करता था. शारीरिक और मानसिक रूप से उसका उत्पीड़न करता था, तो ऐसे हालात में उसके शौहर को कानूनी दफाएं लगाकर जेल में भेजना चाहिए. यहां तलाक की तो बात ही नहीं आती है.


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें