mam

पश्चिम बंगाल विधानसभा ने सोमवार को पश्चिम बंगाल का नाम बदलने का प्रस्ताव पास कर दिया. जिसके तहत राज्य को हिंदी, अंग्रेजी और बंगाली भाषा में अलग-अगल नोमों से जाना जाएगा.

पश्चिम बंगाल को अब अंग्रेज़ी और हिन्दी में ‘बैन्गॉल’ और ‘बंगाल’ कहा जाएगा और इसे बंगाली भाषा में ‘बांग्ला’ कहा जाएगा, अगर केंद्र ने राज्य के इस संदर्भ में भेजे जाने वाले प्रस्ताव को मंजूरी दे दी. वर्तमान में बंगाली भाषा में राज्य को ‘पश्चिम बंग’ या ‘पश्चिम बांग्ला’ कहा जाता है.

और पढ़े -   मॉब लिंचिंग: विपक्ष की कानून में बदलाव की मांग को सरकार ने ठुकराया

प्रस्ताव पास होने के बाद ममता बनर्जी ने कहा कि “आज का दिन हर लिहाज से ऐतिहासिक है. हमें इस फैसले पर गर्व है. जो लोग इसका विरोध कर रहे थे, उन्हें इतिहास में कभी माफ नहीं किया जाएगा.”

विपक्षी दलों ने मुख्यमंत्री के सदन में दिए गए भाषण के दौरान ही बहस छिड़ जाने के बाद वॉकआउट कर दिया था. इस पर ममता बनर्जी ने कहा, “वामदलों ने भी नाम परिवर्तन की कोशिश की थी, लेकिन नाकाम रहे थे… अब वही इसका विरोध कर रहे हैं…”

और पढ़े -   नोटबंदी ने निगली 15 लाख लोगों की नौकरी, 60 लाख लोगों को किया रोटी से मोहताज

गौरतलब है कि सरकार ने यह पहले ही साफ कर दिया था कि राज्य का नाम बदलने पर चर्चा के लिए 26 अगस्त से विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाएगा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE