नोटबंदी के बाद पुराने नोटों को बदलवाने के लिए देश की जनता ने बड़े पैमाने पर बैंकों में खाते खुलवा कर अपना धन जमा किया. लेकिन अब बैंकों ने उसी का नाजायज फायदा उठाते हुए ग्राहकों को लूटना शुरू कर दिया है.

इसकी शुरुआत सबसे पहले सार्वजनिक क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने की है. एसबीआई ने आज से अपने सर्विस चार्ज में बदलाव करते हुए ग्राहकों को बढ़ा झटका दिया है.

और पढ़े -   मोदी के न्यू इंडिया में पुरोहित का 'एनआईए इंडिया' भी शामिल

1 जून से अगर आप कटे-फटे या फिर गले हुए नोटों को बदलवाएंगे तो एसबीआई आपसे इसके लिए 2 से लेकर 5 रुपए तक का शुल्क वसूलेगा. हालांकि यह शुल्क आपसे उस सूरत में वसूला जाएगा जब आपकी ओर से बदले जाने वाले नोटों की संख्या 20 से ज्यादा या फिर उनकी कीमत 5000 रुपए से अधिक होगी.

इसके अलावा एसबीआई बेसिक सेविंग डिपॉजिट पर भी अकाउंट होल्डर के लिए सर्विस चार्ज के नियमों में बदलाव किया गया है. इसमें फ्री कैश विद्ड्रॉअल लिमिट 4 ही रहेगी. इसमें एटीएम से किए गए ट्रांजैक्शन भी शामिल होंगे. अगर आप 4 बार से ज्यादा कैश विदड्रॉल करते हैं तो आपको प्रति ट्रांजैक्शन 20 रुपए देने होंगे। इस पर अलग से सर्विस चार्ज भी लिया जाएगा.

और पढ़े -   अमित शाह को जेल पहुँचाना मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी उपलब्धि: राणा अय्यूब

नए नियमों के मुताबिक एसबीआई के एटीएम से अतिरिक्त लेनदेन पर आपको 10 रुपए देने होंगे. अगर आप दूसरे बैंक के एटीएम से एक्स्ट्रा ट्रांजैक्शन करते हैं तो आपको इसके लिए हर ट्रांजैक्शन पर 20 रुपए का चार्ज देना होगा. इस पर सर्विस चार्ज भी लिया जाएगा.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE