विश्व हिंदू परिषद ने अलीगढ़ में सरस्वती शिशु मंदिर में 125 छात्राओं को हथियार चलाने की ट्रेनिंग दी.  एक हफ्ते चली दुर्गा वाहिनी की ट्रेंनिंग में तलवारबाजी और निशानेबाजी से लेकर बंदूक चलाने की ट्रेनिंग दी गई. ये ट्रेनिंग कोई आत्मरक्षा या देश की सुरक्षा के लिए नहीं बल्कि वीएचपी के एक खतरनाक प्लान का हिस्सा है जिसमें इन मासूम बच्चियों के दिलों-दिमाग में मुस्लिमों के प्रति नफरत भरने के लिए दी जा रही हैं.

और पढ़े -   ममता बनर्जी ने मुस्लिम मंत्री को नियुक्त किया तारकेश्वर मंदिर बोर्ड का चेयरमैन, मचा बवाल

ट्रेनिंग कैंप में लड़कियों में हिन्दू सुरक्षा के नाम पर मुसलमानों को दुश्मन बताया जा रहा है. लव जिहाद का डर पैदा किया जा रहा हैं. विश्व हिंदू परिषद के लिए धमार्नांतरण नई बात नहीं हैं. घर वापसी के नाम पर विश्व हिंदू परिषद धर्म परिवर्तन कराती आई हैं. लेकिन अब वीएचपी ने धमार्नांतरण के लिए लड़कियों को आगे कर दिया हैं. कैंप में लड़कियों को कहा जा रहा है कि वे मुस्लिम लड़कों को अपना भाई बनाये, यदि वे विवाह करना चाहते है तो वे हिन्दू बने.

और पढ़े -   सरकारी मदद देने की एवज में राजस्थान की बीजेपी सरकार ने लोगो के घरो के बाहर लिखा, 'मैं बेहद गरीब हूँ'

विश्व हिंदू परिषद अपने यूथ विंग बजरंग दल जिस पर दंगा भ़ड़काने के आरोप सहित महिलाओं से बदसलूकी आदि के कई मामले दर्ज हैं. इसके बावजूद उत्तरप्रदेश सरकार का कोई कारवाई ना करना कई सवाल पैदा करता हैं.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE