नई दिल्ली।  आज देश में मुसलमानों के जो हालात हैं वह उनके अपने करतूतों के कारण हैं क्योंकि मुसलमान बेहिस , स्वार्थी और लालची हो चुका है, मुसलमान अपने भाई को परेशान करने के लिए रस्ते की खोज करता है, मुसलमान आपस में ही लड़ कर अपने आप को कमजोर करता है।
सबसे बड़ी बात आज के मुसलमानों में यह देखने को मिल रही है कि वह ब्याज व्यवसाय से बहुत करीब होता जाराहा है,जाहिर सी बात है जब वे ब्याज के कारोबार से करीब होता जाएगा तो वह ब्याज का लाभ अपने और बच्चों के लिए उपयोग करेगा इस को साफ शब्दों में यूं कह लिया जाए कि मुसलमान अब हराम खाना शुरू कर चुका है इसलिए उसे आज हर तरह की परेशानियां घेरने लगी हैं , इस्पैन के मुसलमानो का यही हाल था और वहां मसलमान नेस्तोनाबूद होगए। इन विचारों को इत्तेहादे मिल्लत पार्टी के अध्यक्ष व सपा सरकार में रहे पूर्व कैबिनेट मंत्री का दर्जा रखने वाले प्रमुख मुस्लिम धर्म गुरु मौलाना तौक़ीर रज़ा खान ने सदा ए भारत से मुस्लिम मुद्दों पर विस्तृत चर्चा करते हुए व्यक्त किया।
मौलाना महोदय ने अपने बातचीत के दौरान कहा कि अगर मुसलमान हराम खाना, ब्याज व्यवसाय का कारोबार करना बंद कर दे तो उसकी कठिनाईयां अपने आप समाप्त हो जाएंगी।
मौलाना तौक़ीर रज़ा खान ने अपने बातचीत में कहा कि आज पूरी दुनियां में मुसलमान अपमानित क्यों है कि क्यों की वह अपने सच्चे रास्ते से भटक चूका है,आज मुसलमान उन के नेवालों का शिकार हो चुका है जो चाहते हैं कि मुसलमान हराम तरीके से रोज़ी कमाए और खाए ।
मौलाना ने अपने बातचीत में कहा कि आज पूरी दुनियां इजरायल के कब्जे में है और वही चाहता है कि दुनिया में हर मसलमान के अंदर हराम का खाना पहुंच जाए और जब हराम का खाना पहुंच जाएगा तो मुसलमान स्वतः हमारे दाम में गिरफ्तार हो जाएगा।
मौलाना ने भारत के मुसलमानों की हालत पर चिंता जताते हुए कहा कि आज मुसलमान कुछ सिक्कों के लिए अपने विवेक का सौदा करने लगा है,आज मुसलमानों का धर्म गुरु (नेता) उन के हाथों बिक चुका है जो मुसलमानों को सदियों से नेस्तनाबूद करने की योजना बना कर बैठा है।
उन्होंने देश के हालात पर चर्चा करते हुए फ़रमाया की में वर्षों से मुस्लिम राजनीति कर रहा हूँ लेकिन आज के जैसा गंभीर स्थिति देश में मुसलमनो के प्रति नहीं देखा कि हर तरह की मशीनरी मुसलमानों को खत्म करने के लिए लगी हो।
मोलाना ने आरएसएस के बारे बातचीत करते हुए कहा कि यह वह लोग हैं जिन्होंने मुसलमानों को खत्म करने के लिए अंग्रेजों का साथ देकर मुगल साम्राज्य को खत्म किया। और जब अंग्रेजों ने यहां शासन शुरू की और जब अंग्रेजों को भागने का भारतियों अभियान शुरू किया तो सबसे पहले मुसलमानों ने इस में भाग लिया लेकिन यही आरएसएस है जिसने भारत में रहते हुए अंग्रेजों का साथ दया। मोलाना ने देश में मुसलमानों के प्रति गंभीर स्थिति की ओर इशारा करते हुए कहा कि आज पूरी तरह से भारत का बागडोर उन्हीं लोगों के हाथ में जो हिन्दू राष्ट्र बनाना चाहते हैं और ये वही लोग हैं जिन लोगों ने हर युग में अंग्रेजों का साथ दिया।
उन्होंने कहा आज जो हालात मुसलमानों के प्रति बनाए जा रहे हैं इस पर सभी ( मिल्ली नेताओं ) धर्म गुरुवों को बिना किसी भेदभाव के एक साथ खड़ा होना होगा और अगर मुस्लिम मिली नेता एक साथ खड़े हो गए तो मुसलमानों की स्थिति अपने आप बेहतर हो जाएगी। (upuklive)

लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें