83 cownew 5

भरतपुर। राजस्थान का अलवर एक बार फिर गौरक्षको की गुंडागर्दी की वजह से चर्चा में है। यहाँ संदिग्ध गौरक्षको के हमले में एक शख़्स की मौत हो गयी जबकि एक अन्य बुरी तरह घायल हो गया। जबकि तीसरा शख़्स अपनी जान बचाकर वहाँ से भागने में सफल रहा। फ़िलहाल मामले में कुछ गिरफ़्तारियाँ हुई है लेकिन पुलिस अभी कुछ भी कहने से बच रही है। जहाँ हमले में घायल हुआ शख़्स आरोप लगा रहा है की उनके ऊपर गोलियों से हमला हुआ। वही पुलिस इससे इंकार कर रही है।

पुलिस का कहना है की प्रथम दृष्ट्या जाँच में गोली चलाने के कोई सबूत नही मिले है। हालाँकि घटना के समय मौजूद दूसरे शख़्स जावेद ने भी गोलीबारी की पुष्टि की है। वही हमले में घायल हुए तहिर ने इंड़ीयन इक्स्प्रेस से बात करते हुए अपनी आपबीती सुनाई। उसने बताया कि वह गुरुवार को उमर और जावेद के साथ गाय ख़रीदने के लिए निकले थे। हमने दौसा से पाँच गाय ख़रीदी और उसी दिन वापिस घर के लिए चल दिए।

तहिर ने आगे बताया की शुक्रवार तड़के जैसे ही हम गोविन्दगढ़ के पास पहुँचे तो वहाँ क़रीब छह-सात लोगों ने हम पर गोलियाँ चलानी शुरू कर दी। मैं ट्रक में बीच में बैठा हुआ था और जावेद गाड़ी चला रहा था। जबकि उमर मेरे बायीं और बैठा था। गोलियाँ चलते ही जावेद ट्रक छोड़कर भाग गया। जबकि मुझे और उमर को गोली लग गयी। जैसे ही मैंने दरवाज़ा खोला तो उमर वही पर गिर गया। जबकि मैंने भागने की कोशिश की।

लेकिन बाँह में गोली लगने की वजह से ज़्यादा दूर नही भाग सका। इसके बाद एक हमलावर ने मेरे सर पर बट से हमला किया जबकि दूसरे ने मेरे पाँव को मरोड़ दिया। इसके बाद मैं बेहोश हो गया। क़रीब एक घंटे बाद जब मुझे होश आया तो वहाँ कोई नही था। बाद में मैं किसी तरह से अपने गाँव के पास पहुँच जहाँ मेरे परिजनो ने मुझे अस्पताल में भर्ती कराया। ख़ुद डॉक्टर ने मेरी बाँह से गोली निकाली जो मैंने सम्भाल कर रखी है।


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE