09_thsri_modi_2305331f

एनएसजी (परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह) में शामिल होने की भारत की कोशिशों को एक के बाद एक झटके लगते जा रहें हैं. स्विट्जरलैंड सहित NSG में भारत की एंट्री के खिलाफ और चीन के पक्ष में 6 देश सामने आये हैं. ब्राजील, ऑस्ट्रिया, न्यूजीलैंड, आयरलैंड और तुर्की पहले ही NSG में भारत की एंट्री का विरोध क्र चुके हैं. अब स्विट्जरलैंड ने भी अपना रुख बदल कर भारत विरोधी भूमिका इख़्तियार कर ली हैं. पीएम नरेंद्र मोदी की यात्रा के दौरान स्विट्जरलैंड ने NSG में भारत की मेंबरशिप को समर्थन देने की घोषणा की थी.

और पढ़े -   आरएसएस पर विपक्ष की आलोचना पर बिफरे योगी कहा, आरएसएस न होता तो पंजाब, बंगाल और कश्मीर होते पाकिस्तान के अंग

दक्षिण कोरिया की राजधानी सोल में NSG मेंबर्स की अहम बैठक के दौरान ब्राजील, ऑस्ट्रिया, न्‍यू जीलैंड, आयरलैंड और तुर्की ने भारत की सदस्‍यता का विरोध किया था. इन देशों ने दलील दी कि चूंकि भारत ने एनपीटी पर साइन नहीं किया है, इसलिए उसे इस क्‍लब में शामिल नहीं किया जाना चाहिए.

एनएसजी में कुल 48 देश शामिल है. भारत इन देशों को मनाने की कोशिश में लगा है लेकिन पाकिस्तान लगातार इसका विरोध कर रहा है. एनएसजी में सर्व सहमति से ही मेम्बर बना जा सकता हैं. अगर इस तरह भारत का विरोध रहा तो भारत की सारी मेहनत बेकार हो जाएँगी

और पढ़े -   स्मृति ईरानी की बड़ी मुश्किलें - हाई कोर्ट ने फर्जी डिग्री विवाद में ट्रायल कोर्ट से मांगा रिकॉर्ड

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE