मुंबई | देश में इस समय भीड़ तंत्र, लोकतंत्र पर भारी पड़ता दिख रहा है. इस भीड़ का कोई चेहरा नही है. यह कभी गौरक्षा के नाम पर तो कभी मजहब के नाम पर लोगो को पीट पीट कर मार रही है. भीड़ की इस बर्बरता का शिकार कभी कोई जुनैद बनता है तो कभी कोई अलीमुद्दीन. लेकिन दुःख की बात यह है की भीड़ के भेष में छिपे इन भेडियो पर लगाम लगाने की सारी कोशिश नाकाम होती दिख रही है.

अब ऐसी मामलो पर एक कानून बनाने को लेकर बॉलीवुड अभिनेत्री स्वरा भास्कर सामने आई है. अपने संजीदा अभिनय के लिए प्रसिद्ध स्वरा ने एक ऑनलाइन याचिका की शुरुआत कर मांग की है की संसद में लोगो की सुरक्षा के लिए एक मानव सुरक्षा कानून (MASUKA) बनाया जाए. इसके अलावा स्वरा की यह भी मांग है की भीड़ की बर्बरता को गैर जमानती अपराधो की श्रेणी में रखा जाए और इस पर कडी सजा का प्रवधान किया जाए.

स्वरा भास्कर ने ऐसी घटनाओं के विरोध में change.org पर एक ऑनलाइन याचिका शुरू की है. याचिका में कहा गया की ’16 साल के जुनैद ने अपने भाई की गोद में रेलवे स्टेशन पर दम तोड़ इया. उसे पीट पीटकर और चाकू मारकर भीड़ ने मौत के घाट उतार दिया. उसे बीफ खाने वाला और देशद्रोही कहा गया. जितनी बार भी मैं ऐसी घटनाओं के बारे में सोचती हूँ मेरा सिर शर्म से झुक जाता है.’

स्वरा ने भारत की राष्ट्रिय पहचान पर खतरा बताते हुए लिखा की मुझे भारतीय होने पर गर्व है. हमारे देश की ताकत हमारी विविधता है. हम सभी संस्कृतियों , धर्मो और भाषाओ को अपनाते है. लेकिन हाल फ़िलहाल में जो घटनाये घटित हुई उससे डर है की कही हमारी राष्ट्रिय पहचान खतरे में न पड़ जाए. मैं एक अभिनेत्री हूँ लेकिन एक ईमानदार नागरिक होने के नाते इन लश्करियो को होने की इजाजत नही दी जा सकती.

स्वरा यही नही रुकी उन्होंने गौरक्षा समूहों पर बैन लगाने की मांग करते हुए कहा की गौरक्षा के नाम पर बर्बरता करने वालो को कड़ी सजा दी जानी चाहिए. इसके अलावा स्वरा ने एक हेल्पलाइन नम्बर जारी करने की भी मांग की. स्वरा की इस याचिका को काफी लोगो का समर्थन मिल रहा है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

अभी पढ़ी जा रही ख़बरें

SHARE