आजमगढ़ जिले में जमेत उलेमा हिन्द की तरफ से आयोजित संविधान सुरक्षा सम्मेलन में पहुंचे वक्ताओं में भारत माता की जय के नारे लगाये जाने को लेकर मतभेद उभर कर सामने आया. जहां दारूल उलूम के फतवे को जमीयत उलेमा हिन्द के महासचिव ने खारिज किया वहीं स्वामी अग्निवेश ने फतवे का समर्थन किया.

भारत माता की जय नहीं बोलने वाले फतवे के समर्थन में उतरे स्वामी अग्निवेश

आजमगढ़ जिले के सरायमीर थाना क्षेत्र के मदरसा जामिया शरइया फैजुल उलूम शेरवा के ईदगाह में जमीयत उलेमा हिन्द की तरफ से आयोजित विशाल संविधान सुरक्षा सम्मेलन में देशभर से कई सामाजिक कार्यकर्ता, धर्मगुरू, राजनीतिज्ञ शामिल हुए. सम्मेलन में हजारों की संख्या में लोगों ने भी शिरकत की. इस दौरान दारूल उलूम द्वारा भारत माता की जय पर जारी किये फतवे का जहां स्वामी अग्निवेश ने समर्थन किया वहीं जमीयत उलेमा हिन्द के महासचिव ने खारिज कर दिया.

और पढ़े -   जीएसटी का विरोध करने वाले व्यापारियों पर लगेगी रासुका, शिवराज सरकार ने दिए आदेश

स्वामी अग्निवेश ने कहा कि किसी भी इंसान को भारत माता की जय बोलने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता. जो फतवा जारी हुआ है वह सही है.

जमियत उलेमा के अध्यक्ष अरशद मदनी ने कहा कि भारत माता की जय कहने में कोई परेशानी नहीं. मुस्लिम भी भारत माता की जय बोल सकते हैं.

गौरतलब है कि सहारनपुर के इस्लामिक शिक्षण संस्था दारुल उलूम ने एक फतवा जारी करते हुए कहा था कि मुसलमानों को भारत माता की जय नहीं बोलना चाहिए. फतवे के मुताबिक भारत उनका वतन है और वे उससे प्यार करते हैं लेकिन वे उसकी इबादत नहीं कर सकते क्योंकि इस्लाम में सिर्फ अल्लाह की इबादत की बात कही गई है (pradesh18)

और पढ़े -   पाकिस्तान की जीत पर नारे लगाने और पठाखे फोड़ने का नही मिला कोई गवाह, सभी 15 मुस्लिम आरोपियों से राजद्रोह का मुकदमा वापिस

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE