नई दिल्ली। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज 17-18 जनवरी को फिलिस्तीन और इजरायल का दौरा करेंगी और दोनों देशों के साथ द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा करेंगी। गुरुवार को यहां इसकी जानकारी दी गई। सुषमा के साथ सचिव (पूर्व) और विदेश मंत्रालय के अन्य अधिकारी भी इस यात्रा में शामिल होंगे।

फिलिस्तीन, इजरायल का दौरा करेंगी सुषमा स्वराज

विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर कहा है कि विदेश मंत्री की पश्चिम एशिया क्षेत्र की यह पहली यात्रा है और सबसे पहले वह फिलिस्तीन का दौरा करेंगी। इससे यह जाहिर होता है कि भारत इस क्षेत्र में फिलिस्तीन के साथ अपने संबंधों को कितना महत्व देता है।

राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी पिछले साल अक्टूबर में फिलिस्तीन का दौरा किया था। विदेश मंत्रालय द्वारा जारी बयान के मुताबिक, 17 जनवरी को सुषमा फिलिस्तीन के प्रमुख नेताओं से मिलेंगी और भारत-फिलिस्तीन संबंधों पर बात करेंगी। सुषमा वहां रामल्ला में फिलिस्तीन डिजिटल लर्निग एंड इनोवेशन सेंटर का उद्घाटन भी करेंगी।

विदेश मंत्रालय ने एक अलग बयान में कहा कि सुषमा अपने प्रतिनिधिमंडल के साथ 17-18 जनवरी को इजरायल का दौरा करेंगी। यह सुषमा की पहली इजरायल यात्रा होगी। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी पिछले साल अक्टूबर में इजरायल का दौरा किया था।

बयान में कहा गया है कि भारत और इजरायल के बीच बेहद करीबी और बहुआयामी संबंध हैं। सुषमा इजरायल में वहां के शीर्ष नेताओं के साथ भारत-इजरायल संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए बातचीत करेंगी। दोनों ही देशों का लोकतंत्र और मुक्त बाजार अर्थव्यवस्था में गहरा यकीन है।

बयान में कहा गया है कि भारत और इजरायल के बीच कृषि, विज्ञान, प्रौद्योगिकी और शिक्षा के क्षेत्र में गहरा संबंध है। मंत्री इजरायल में भारतीय समुदाय को भी संबोधित करेंगी। मंत्रालय ने कहा कि दक्षिण एशिया क्षेत्र में भारत का व्यापक संबंध है और क्षेत्र के अलग-अलग देशों के साथ उसका स्वतंत्र संबंध है।

इस दौरान इजरायली दूतावास द्वारा आज जारी एक बयान में कहा गया है कि सुषमा स्वराज का वहां राष्ट्रपति रेवेन रिवलिन, प्रधानमंत्री वेंजामिन नेतन्याहू, रक्षामंत्री मोशे यालोन, राष्ट्रीय अवसंरचना मंत्री यूवल स्टिनिट्ज और इजरायली सांसदों से मिलने का कार्यक्रम है।

पिछले साल नवंबर में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी इजरायल की यात्रा की थी। वहीं, 2015 में इजरायल के कृषिमंत्री याइर शामिर और रक्षामंत्री यालोन भारत आए थे। सुषमा स्वराज ने 2008 में भारत-इजरायल संसदीय मैत्री समूह के तहत इजरायल की यात्रा की थी। दूतावास ने कहा है कि इस यात्रा से दोनों देशों के बीच संबंध सुदृढ़ होंगे। साभार: ibnlive


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें