the-government-will-then-notbandi-today-s-plea-hearing-in-sc

नई दिल्ली | नोट बंदी के फैसले के बाद केन्द्र सरकार लगातार सवालों के घेरे में है. पहले विपक्ष मोदी सरकार पर लगातार हमला कर रहा है वही अब सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र सरकार से नोट बंदी के बाद देश में पैदा हुई स्थिति के बारे में सवाल किया है. कोर्ट ने सरकार से पुछा है की वो किसानो की समस्याओं को हल करने के लिए क्या उपाय कर रही है?

देश भर की अदालतों में, नोट बंदी को लेकर दाखिल हो रही याचिकाओ पर सुप्रीम कोर्ट ने सभी याचिकाकर्ताओ को नोटिस भेजा है. दरअसल केंद्र सरकार ने कोर्ट से गुहार लगाई थी की वो नोट बंदी से सम्बंधित सभी याचिकाओ को एक कोर्ट में ट्रान्सफर करने का आदेश दे. इस मामले में सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा की हम ऐसा आदेश नही दे सकते क्योकि सभी याचिकाओ में अलग अलग मुद्दों को उठाया गया है.

और पढ़े -   एजेंडा तो हिंदू राष्ट्र का और राष्ट्रपति दलित, मनुस्मृति राज में दलित प्रेसिडेंट से कोई फर्क नही पड़ेंगा

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार की गुहार को ठुकराते हुए कहा की हम किसी भी याचिकाकर्ता को अदालत में याचिका डालने से नही रोक सकते. इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से पुछा की वो किसानो की समस्याओ को हल करने के लिए क्या कदम उठा रही है. इसका जवाब देते हुए अटोर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने कहा की सरकार किसानो की समस्या को हल करने के लिए रोज दिशा निर्देश जारी कर रही है.

और पढ़े -   मोदी सरकार ने विवादित लेखिका तस्लीमा नसरीन का एक साल के लिए बढ़ाया वीजा

मुकुल रोहतगी ने आगे बताया की सरकार ने बीज खरीदने के लिए किसानो को छूट दे दी है. अब किसान पुराने नोट से बीज खरीद सकेंगे. इसके अलावा नाबार्ड को भी दिशा निर्देश दिए है की वो जिला केन्द्रीय सहकारी बैंकों को पैसा पहुंचाए. इसके अलावा अब हालात नियंत्रण में है. बैंकों के सामने से कतार छोटी हो रही है. अभी तक बैंक में छह लाख करोड़ रूपए बैंक में जमा हो चुके है. इससे बैंक के आर्थिक हालात सुधारने में मदद मिलेगी.

और पढ़े -   पाकिस्तान की जीत पर नारे लगाने और पठाखे फोड़ने का नही मिला कोई गवाह, सभी 15 मुस्लिम आरोपियों से राजद्रोह का मुकदमा वापिस

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE