apj1

देश के पूर्व राष्ट्रपति और मिसाइल मैन के नाम से प्रसिद्ध डॉक्टर एपीजे अब्दुल कलाम की पहली पुण्यतिथि पर बुधवार को केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू और मनोहर पर्रिकर ने तमिलनाडु के रामेश्वरम में उनके राष्ट्रीय स्मारक का शिलान्यास किया. इस दौरान कलाम के जीवन और उपलब्धियों को चित्रित करती ‘मिशन ऑफ लाइफ’ नाम की एक प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया गया.

भारत सरकार द्वारा कलाम की प्रतिमा को लेकर मुस्लिम संगठनों द्वारा विरोध किया जा रहा हैं. विरोध कर रहे मुस्लिम संगठनों का तर्क हैं कि कलाम मुसलमान थे, इसलिए उनकी मूर्ति नहीं बनाई जानी चाहिए. अंग्रेजी अखबार ‘द हिंदू’ के के अनुसार मुस्‍लिम संस्‍था ने कलाम की मूर्ति बनने से रोकने के लिए उनके परिवार से भी बात की है.

और पढ़े -   अर्नब गोस्वामी की बड़ी परेशानी - कांग्रेस नेता शशि थरूर ने दायर किया मानहानि का मुकदमा

गौरतलब है कि पिछले साल 27 जुलाई को शिलांग में इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट में स्टूडेंट्स को संबोधित करते समय हार्ट अटैक से उनका देहांत हो गया था.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE