नई दिल्ली | हाल के दिनों में गाय के नाम पर कई जगहों पर हुई हिंसा में कई लोगो को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा. प्रधानमंत्री मोदी की अपील के बाद भी इस तरह की घटनाए रूकने का नाम नही ले रही है. अब केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री ने ऐसी घटनाओ पर रोक लगाने के लिए एक नया सुझाव दिया है. इनका दावा है की इसके जरिये देश में गौहत्या और गाय के नाम पर हो रही हिंसा की घटनाओं में गिरावट आएगी. अपने प्रस्ताव को लेकर ये जल्द ही वन विभाग मंत्री हर्ष वर्धन से मुलाकात भी करने वाले है.

और पढ़े -   दशहरे और मोहर्रम पर नही बजेगा डीजे और लाउडस्पीकर, योगी सरकार ने दुर्गा प्रतिमा और ताजिया की ऊंचाई भी की निर्धारित

केन्द्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने बताया की अगर देश के 16 राज्यों के सभी जिलो में 1 हजार हेक्टेयर भूमि पर एक पशुविहार का निर्माण कर दिया जाए तो ऐसी घटनाओ में गिरावट आ सकती है. अहीर ने कहा की यह पशुविहार , गाय का रहने का एक स्थान होगा जिसको गौशाला की तरह ही संचालित किया जायेगा. उन्होंने कहा की मैंने यह विषय पहले भी उठाया है. कहा जा रहा है की अपने प्रस्ताव को लेकर अहीर, सितम्बर की शुरुआत में वन विभाग मंत्री हर्ष वर्धन से मुलाक़ात करने वाले है.

और पढ़े -   गुजरात दंगों की जांच करने वाले वाईसी मोदी बने एनआईए प्रमुख

दरअसल हंसराज अहीर का प्रस्ताव यह है की 16 राज्यों के सभी जिलो में एक पशुविहार का निर्माण किया जाए. लेकिन इसका निर्माण केवल जंगल में ही होना चाहिए. जिससे की गायो के चारे की समस्या से निपटा जा सके. उनका कहना है की देश में करीब 7 करोड़ हेक्टेयर जमीन जंगल की है जिसका कोई इस्तेमाल नही हो रहा. इनमे से एक-एक हजार हेक्टेयर जमीन पशुविहार के लिए आवंटित की जा सकती है.

और पढ़े -   पहलु खान को श्रदांजलि देने को लेकर मुस्लिम समुदाय और हिन्दू संगठन आये आमने सामने, पुलिस की मुस्तैदी से टली बड़ी घटना

पशुविहार के ऊपर आने वाले खर्चे के बारे में उन्होंने कहा की इस पर शून्य खर्चा आएगा. क्योकि गायो के चारे की व्यवस्था जंगल से हो जाएगी और चारे को लाने का काम मनरेगा के जरिये कराया जा सकेगा. उनका यह भी कहना है की जो किसान अपनी गायो को बेचना चाहता है वो उन्हें पशुविहार में भी भेज सकते है. बताते चले की अहीर महाराष्ट्र के चंद्रपुर से सांसद है. चंद्रपुर में गौहत्या पर बैन लगाया हुआ है.


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE