मंत्रालय ने आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा संचालित व्यक्ति विकास केंद्र ट्रस्ट को अनुदान दिया है। हालांकि, राज्य संस्कृति मंत्री महेश शर्मा का दावा है कि यह कोई ज्यादा बड़ा अनुदान नहीं है।

संस्कृति मंत्रालय द्वारा श्री श्री रविशंकर के समारोह विश्व संस्कृति महोत्सव को 2.25 करोड़ रुपए का अनुदान दिए जाने की जानकारी समाने आने के बाद एक बार फिर आर्ट ऑफ लिविंग का यह समारोह विवादों में घिर गया। मंत्रालय ने श्री श्री रविशंकर के फाउंडेशन आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा संचालित व्यक्ति विकास केंद्र ट्रस्ट को अनुदान दिया है। हालांकि, राज्य संस्कृति मंत्री महेश शर्मा का दावा है कि यह कोई ज्यादा बड़ा अनुदान नहीं है। वहीं कांग्रेस का कहना है कि पहले कभी भी एक समारोह के लिए मंत्रालय की ओर से इतनी बड़ी राशि नहीं दी गई।

और पढ़े -   ममता बनर्जी ने मुस्लिम मंत्री को नियुक्त किया तारकेश्वर मंदिर बोर्ड का चेयरमैन, मचा बवाल

मंत्रालय के फैसले पर सफाई देते हुए शर्मा ने बताया कि संस्कृति मंत्रालय ऐसी संस्थाओं को अनुदान देता है जो कि भारतीय विरासत और संस्कृति का राष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शन करती हैं। ऐसी संस्थानों को अनुदान निर्धारित करने के लिए एक कमेटी है। हम लोग अकसर ऐसे अनुदान देते रहते हैं, कई बार तो इससे भी ज्यादा होता है।

पूर्व संस्कृति मंत्री अंबिका सोनी ने कहा कि मैं 2006-09 तक संस्कृति मंत्री रहीं। मुझे याद नहीं कि हम लोगों ने किसी एक इवेंट के लिए इतना बड़ा अनुदान दिया हो। पूरे मंत्रालय का बजट ही 50 करोड़ रुपए था। (Jansatta)

और पढ़े -   जीएसटी: रोजमर्रा में इस्तेमाल होने वाली चीजे होंगी सस्ती, पढिये पूरी लिस्ट

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE