भारत में एक किमी की सड़क पर पांच स्पीड ब्रेकर नजर आ जाए तो ये कोई अचरज की बात नहीं है. लेकिन लोगों की जान बचाने का दावा कर बनाए जाने वाले ये स्पीड ब्रेकर रोजाना 9 लोगों की जान ले लेते है. हर दिन इन स्पीड ब्रेकर से ओसतन 30 दुर्घटना होती है जिनमे 9 लोगों की मौत होती है.

स्पीड ब्रेकर के जरिए भारत में होने वाली दुर्घटनाए ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया में होने वाली आम सड़क दुर्घटनाओं से भी ज्यादा है.  केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने माना, ‘यह समस्या पूरे देश में है. हमारे यहां हर रोड पर स्पीड ब्रेकर हैं जो कि आपकी हड्डियां तोड़ सकते हैं और आपके वाहन को क्षतिग्रस्त कर सकते हैं.’ गडकरी ने कहा कि मंत्रालय यह सुनिश्चित करेगा कि स्पीड ब्रेकर एक निश्चित स्थान पर सोच-विचार कर बनाया जाए.

और पढ़े -   NDTV ने BSE को खत लिखकर चैनल बिकने की खबर को किया ख़ारिज कहा, नही बदला स्वामित्व

भारत में स्पीड ब्रेकर बिना किसी नियम-कानूनों के बने हुए ही मिलेंगे.  ग्रामीण इलाकों में हर 100 मीटर पर एक स्पीड ब्रेकर बना मिलता है. जो ईटों की मदद से डीआईवाई बंप्स (हाथ से बने स्पीड ब्रेकर) बना हुआ होता है.

सड़क एवं परिवहन मंत्रालय ने हालांकि हाइवे बनाने वाली सभी एजेंसियों को आदेश दिए हैं कि मुख्य रास्तों से सभी स्पीड ब्रेकर हटा दिए जाएं.

और पढ़े -   बड़ी खबर: 600 करोड़ में बिका एनडीटीवी, बीजेपी नेता अजय सिंह होंगे नए मालिक

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE