नई दिल्ली: हैदराबाद यूनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला की खुदकुशी मामले में स्मृति ईरानी के एक बयान ने मामले को नया तूल दे दिया है। खुदकुशी के बाद रोहित के शरीर की जांच करने वाली डॉक्टर ने स्मृति ईरानी के संसद में दिए बयान को पूरी तरह से नकार दिया है।

रोहित वेमुला को मृत घोषित करने वाली डॉक्‍टर ने किया स्‍मृति ईरानी के बयान का खंडनडॉक्टर का बयान
NDTV से बात करते हुए डॉ राजश्री मालपथ ने कहा कि जब उन्होंने जांच की तब रोहित की न तो नब्ज़ चल रही थी, न ही उसकी धड़कन चल रही थी। जांच के बाद उन्हें मृत घोषित कर दिया था। NDTV के हाथ एक पुलिस रिपोर्ट भी लगी है, जिसमें भी यह जिक्र नहीं है कि उसे इलाज नहीं दिया गया।

स्मृति ईरानी का बयान
रोहित वेमुला मामले पर संसद में स्मृति ईरानी ने कहा था कि आख़िरी समय में रोहित को बचाने की कोशिश नहीं की गई, न ही उसके पास किसी डॉक्टर को जाने दिया गया, न ही उसे अस्पताल ले जाने दिया गया। स्मृति ने इस दावे के लिए पुलिस रिपोर्ट का सहारा लिया था।

अब सवाल यह उठता है कि क्या पुलिस ने कुछ गड़बड़ की या फिर ये मंत्रीजी की कल्पना थी। आज रोहित का परिवार और बाकी निलंबित छात्र इसी मुद्दे पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले हैं।

एक नजर तेलंगाना पुलिस की रिपोर्ट पर
-रोहित वेमुला की जांच किसी डॉक्टर से किए जाने का जिक्र नहीं
-मेडिकल केयर नहीं दिए जाने का भी जिक्र नहीं
– यह रिपोर्ट हाइकोर्ट में दी गई
-मानव संसाधन मंत्रालय को नहीं दी गई ये रिपोर्ट (NDTV)


लाइक करें :-


Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें

कमेंट ज़रूर करें