suci

गृह मंत्रालय के द्वारा कराई गई आत्‍महत्‍याओं की गणना जो कि जाति और धर्म के आधार पर कराई गई थी की रिपोर्ट के अनुसार सिख और मुस्लिम समुदाय में आत्महत्या करने के मामले सबसे कम हैं. The Indian Express की आरटीआई पर सामने आए डाटा के अनुसार, ईसाइयों में आत्‍महत्‍या की दर 17.4 फीसदी है, जबकि हिन्‍दुओं में यही दर 11.3 फीसदी है। मुस्लिम 7 फीसदी और सिख 4.1 फीसदी आत्‍महत्‍या दर के साथ सबसे नीचे हैं।

और पढ़े -   मोदी के प्रधानमंत्री बनते ही देश में धर्म और जाति के नाम पर 41 फीसदी हिंसा बढ़ी

आत्‍महत्‍या की राष्‍ट्रीय दर 10.6 फीसदी है। आत्‍महत्‍या की दर प्रति एक लाख की जनसंख्‍या पर किए गए सुसाइड पर आधारित हैं। इस दर को किसी समाज, समुदाय या देश में किसी समस्‍या का असली पैमाना माना जाता है। 2011 की जनसंख्‍या के अनुसार देश की जनसंख्‍या का 2.3 प्रतिशत ईसाई धर्म मानने वाले हैं, लेकिन आत्‍महत्‍याओं में उनका हिस्‍सा 3.7 प्रतिशत है। आत्‍महत्‍याओं में हिन्‍दुओं की भागीदारी भी (83%) जनसंख्‍या में उनकी हिस्‍सेदारी (79.8%) से ज्‍यादा है।

और पढ़े -   अच्छे दिन के वादों के बीच 500 में से केवल 3 को रोजगार दे पा रही मोदी सरकार

जाति और आरक्षण एक्‍सपर्ट एवं कल्‍याण मंत्रालय के पूर्व सेक्रेट्री पीएस कृष्णन के अनुसार, इन आंकड़ों को सामाजिक-आर्थिक संदर्भ में देखा जाना चाहिए। उनके अनुसार, “लोग बेचारगी में आत्‍महत्‍या करते हैं। ऐसे कई आर्थिक और सामाजिक कारण हैं जो आत्‍महत्‍या की वजह बनते हैं। स्‍वास्‍थ्‍य भी एक बड़ी वजह है जो लोगों को आत्‍महत्‍या करने पर मजबूर करता है।”

गोरतलब रहें कि 2014 में नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्‍यूरो (NCRB) ने पहली बार आत्‍महत्‍याओं का डाटा धर्म और जाति के आधार पर तैयार किया था। इसे 2015 में सार्वजनिक किया जाना था, मगर गृह मंत्रालय ने कभी डाटा रिलीज ही नहीं किया।

और पढ़े -   निखिल वागले के शो को अचानक बंद करने पर भड़के रविश कुमार कहा, गोदी में खेलती है हजारो मीडिया

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE