गोरखपुर | उत्तर प्रदेश में योगी अदित्यनाथ ने जब से सरकार की कमान संभाली है वो तब से ही जनता की समस्याओ से रुबुरु होने के लिए जनता दरबार का आयोजन कर रहे है. उनके जनता दरबार में काफी फरियादी पहुँच भी रहे है. शुक्रवार को योगी आदित्यनाथ गोरखपुर में गोरखनाथ मंदिर का दौरा करने पहुंचे. इस दौरान उन्होंने मंदिर में पूजा अर्चना करने आये लोगो से हाल चाल भी पुछा.

इसके बाद उन्होंने जनता दरबार लगा लोगो की समस्याए सुनी. लेकिन अपनी समस्या लेकर पहुंचे एक सिख फरियादी तब असमंजस में पड़ गया जब उसको योगी से मिलने के एवज में अपनी कृपाण और पगड़ी उतारने के लिए बोला गया. सुरक्षा कर्मियों के इस फरमान से सकते में आये सिख युवक ने ऐसा करने से मना कर दिया. हालाँकि बाद में लोगो के हस्तक्षेप के बाद उसको अन्दर जाने दिया गया.

और पढ़े -   नैनीताल के सरकारी इंटर कॉलेज में महिला शिक्षिका के साथ ABVP कार्यकर्ताओ की बदसलूकी, थाने में शिकायत दर्ज

धर्मशाला बाजार के रहने वाले सरदार तेजपाल सिंह शुक्रवार को मुख्यमंत्री से मिलने जनता दरबार पहुंचे थे. लेकिन जैसे ही वो अन्दर जाने लगे तो उन्हें वहां मौजूद सुरक्षाकर्मियो ने रोक दिया. तलाशी के दौरान उनको कृपाण निकालने के लिए कहा गया. इस पर तेजपाल ने अपना विरोध दर्ज कराया. लेकिन जब सुरक्षाकर्मियो ने उनको अन्दर जाने से रोका तो उन्होंने अपना कृपाण निकालकर दे दिया.

और पढ़े -   मुस्लिम महिला एंकर ने व्यक्त की देश के हालात पर चिंता, लोगो ने पति को भी बीच में घसीटा

लेकिन जैसे ही वो अन्दर जाने लगे तो उन्हें पगड़ी उतारकर तलाशी देने के लिए भी कहा गया. जिस पर तेजपाल भड़क गए. इस दौरान वहां खड़े लोगो ने भी तेजपाल का समर्थन किया. बाद में उनको अन्दर जाने दिया गया. मुख्यमंत्री से मिलकर तेजपाल ने सुरक्षाकर्मी की शिकायत की. बाद में पुलिस और सीएम सेवको ने सुरक्षाकर्मी को फटकार लगाई. बाहर निकलकर तेजपाल ने घटना पर दुःख जताते हुए कहा की 84 में हुए दंगो के बाद पहली बार किसी सरदार का इस तरह अपमान किया गया और उसको पगड़ी उतारने के लिए बोला गया.

और पढ़े -   मोहम्मद कैफ और शबाना आजमी ने तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत , हुए ट्रोल

Urdu Matrimony - मुस्लिम परिवार में विवाह के लिए अच्छे खानदानी रिश्तें ढूंढे - फ्री रजिस्टर करें



Facebook Comment
loading...
कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें

SHARE